+

मुंबई और महाराष्ट्र का अपमान करने वालों को 'Y' श्रेणी की सुरक्षा देना आश्चर्यजनक : अनिल देशमुख

अनिल देशमुख ने कहा कि महाराष्ट्र न केवल राकांपा, शिवसेना या कांग्रेस का है, बल्कि बीजेपी और जनता का भी है। यदि महाराष्ट्र का अपमान होता है तो सभी पार्टी के लोगों को इसकी निंदा करनी चाहिए।
मुंबई और महाराष्ट्र का अपमान करने वालों को 'Y' श्रेणी की सुरक्षा देना आश्चर्यजनक : अनिल देशमुख
शिवसेना सांसद संजय राउत से शुरू हुई जुबानी जंग के बीच बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत को वाई श्रेणी की सुरक्षा दी गई है। संजय राउत की मुंबई न आने की नसीहत पर कंगना ने मुंबई आने का ओपन चैंलेंज किया है। केंद्र सरकार द्वारा दी गई इस सुरक्षा पर महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख ने आश्चर्य जताया है।
अनिल देशमुख ने अपने बयान में कहा कि यह आश्चर्यजनक और दुखद है कि जो लोग मुंबई और महाराष्ट्र का अपमान कर रहे हैं, उन्हें केंद्र द्वारा 'वाई' स्तर की सुरक्षा दी जा रही है। महाराष्ट्र न केवल राकांपा, शिवसेना या कांग्रेस का है, बल्कि बीजेपी और जनता का भी है। यदि महाराष्ट्र का अपमान होता है तो सभी पार्टी के लोगों को इसकी निंदा करनी चाहिए।

कंगना के साथ चल रहे विवादों के बीच संजय राउत बोले-महिलाओं के सम्मान के लिए हमेशा लड़ेगी शिवसेना

संजय राउत से जारी सियासी बयानबाज़ी के बीच केंद्र सरकार ने सोमवार को कंगना को वाई श्रेणी की सुरक्षा मुहैया कराने पर महुर लगा दी है।कंगना राउत की मुंबई न आने की नसीहत पर ओपन चैंलेंज देते हुए 9 सितम्बर को मुंबई आ रही है। बताया जा रहा है कि 9 सितंबर को जब कंगना मुंबई पहुंचेंगी, उन्हें वाई श्रेणी की सुरक्षा मिल जाएगी। उनकी सुरक्षा में 11 जवान तैनात रहेंगे। इसमें एक या दो कमांडो और बाकी पुलिसकर्मी होंगे।
'वाई' श्रेणी की सुरक्षा के तहत, जिस व्यक्ति को सुरक्षा दी जाती है, उसके साथ तीन शिफ्ट में एक व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारी (पीएसओ) भारत में कहीं भी यात्रा करने के दौरान साथ रहता है, जबकि पांच सुरक्षाकर्मी घर पर सुरक्षा प्रदान करते हैं। इस तरह कुल आठ कमांडो रनौत को चौबीस घंटे सुरक्षा देंगे। 
सुशांत मामले में लगातार बॉलीवुड और ड्रग्स के मुद्दे पर खुलकर बोल रही कंगना रनौत कुछ राजनैतिक पार्ट‍ियों से भी पंगा ले लिए है। दरअसल, संजय राउत और कंगना के बीच जुबानी जंग तब तेज हुई जब कंगना ने कहा था किसुशांत की मौत के बाद उन्हें मुंबई में असुरक्षित महसूस होता है। 
कंगना रनौत ने हाल ही में मुंबई की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी, जिसके बाद उन्हें शिवसेना नेताओं की नाराजगी का सामना करना पड़ा था। उनके खिलाफ शिवसेना समर्थकों ने विरोध प्रदर्शन तक किया था।
facebook twitter