+

चौहान ने कहा- देश के समस्त आदिवासी समाज का सम्मान है, मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने का फैसला

सामान्य एवं आदिवासी परिवार में जन्म लेने वाली द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने के फैसले को देश के समस्त आदिवासी समाज का सम्मान बताते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने बृहस्पतिवार को लोगों से आह्वान किया
चौहान ने कहा- देश के समस्त आदिवासी समाज का सम्मान है, मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने का फैसला
सामान्य एवं आदिवासी परिवार में जन्म लेने वाली द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने के फैसले को देश के समस्त आदिवासी समाज का सम्मान बताते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री ने बृहस्पतिवार को लोगों से आह्वान किया कि जब वह इस पद के लिए शुक्रवार दोपहर 12:00 बजे अपना नामांकन पत्र भरेंगी, उस वक्त वे अपने-अपने जिला केंद्रों एवं गांवों में मिठाई बांटकर, ढोल बजाकर और नाच-गाकर खुशियां मनाएं।
भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) द्वारा मुर्मू को राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार बनाने पर यहां भाजपा प्रदेश कार्यालय में आयोजित ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं राष्ट्रीय नेतृत्व को आभार’ कार्यक्रम में चौहान ने कहा, ‘‘आज मैं, अंतरात्मा से प्रसन्न हूं। इतना आनंदित हूं कि आप कल्पना नहीं कर सकते।’’ इस कार्यक्रम में मध्यप्रदेश भाजपा अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा एवं कई आदिवासी लोगों सहित गणमान्य लोग शामिल थे।
भारत के आदिवासी समाज का सम्मान
चौहान ने कहा, ‘‘एक नई क्रांति हो रही है, जो समाज और विकास की दौड़ में सबसे पीछे व सबसे नीचे रह गए थे; उन्हें विकास की दृष्टि से तो ऊपर लाया ही जा रहा है। साथ ही मान, सम्मान और इज्जत देकर देश का भाग्य, भविष्य बनाने का मौका दिया जा रहा है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘यह केवल द्रौपदी मुर्मू जी का सम्मान नहीं है। यह भारत के आदिवासी समाज का सम्मान है। यह मध्यप्रदेश के दो करोड़ आदिवासी भाइयों और बहनों का सम्मान है। हमारे समाज से हमारी बहन राष्ट्रपति बनेंगी।’’
आदिवासी बहन भारत के सबसे बड़े पद पर बैठ रही
चौहान ने कहा, ‘‘द्रौपदी मुर्मू बहन का फार्म (नामांकन)कल (शुक्रवार) दोपहर 12:00 बजे भरा जाएगा, इसीलिए कल 12:00 बजे जो जहां है वहीं, जिला केंद्र पर हो या अपने गांव में हो, मिठाई बांटो, ढोल बजाओ, नाचो-गाओ, खुशियां मनाओ।’’
उन्होंने कहा कि एक आदिवासी बहन भारत के सबसे बड़े पद पर बैठ रही हैं। यह हमारे लिए गौरव और गर्व का विषय है। चौहान ने कहा कि द्रौपदी मुर्मू बहन राष्ट्रपति बनने से पहले एक दिन भोपाल आएंगी, क्योंकि इस चुनाव में विधायक वोट डालेंगे। वह तिथि (मुर्मू के भोपाल आने की तिथि) जब तय हो जाएगी तब भोपाल में आनंद की वर्षा करेंगे। उस दिन भी भोपाल में बड़ा कार्यक्रम होगा और खुशियां मनाएंगे।
मुर्मू (64) प्रधानमंत्री मोदी और पार्टी के शीर्ष नेताओं की मौजूदगी में शुक्रवार को नामांकन पत्र दाखिल करेंगी। राष्ट्रपति पद के लिए मतदान 18 जुलाई को होगा। वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को समाप्त हो रहा है।
facebook twitter instagram