+

NIA और BSF ने सीमा पार से चलित नकली मुद्रा रैकेट का किया भंडाफोड़, एक आरोपी को किया गिरफ्तार

एनआईए ने बीएसएफ के साथ संयुक्त अभियान में भारतीय मुद्रा रैकेट चलाने के आरोप में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है।
NIA और BSF ने सीमा पार से चलित नकली मुद्रा रैकेट का किया भंडाफोड़, एक आरोपी को किया गिरफ्तार
एनआईए ने बीएसएफ के साथ संयुक्त अभियान में भारतीय मुद्रा रैकेट चलाने के आरोप में एक आरोपी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आरोपी की पहचान पश्चिम बंगाल के मालदा निवासी अलाडू उर्फ माथुर के रूप में हुई है। इस मामले की जानकारी रविवार को एनआईए अधिकारी ने दी। उन्होंने बताया कि, गिरोह को सीमा पार से संचालित किया जा रहा था। मुख्य आरोपी बांग्लादेश से नकली नोट भारत भेज रहे थे। एनआईए के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि उन्होंने पिछले हफ्ते गिरोह का भंडाफोड़ किया था और एक सहयोगी को गिरफ्तार किया था, लेकिन वह एजेंसी को चकमा देने में कामयाब रहा और तब से वे उसे पकड़ने के लिए काम कर रहे थे।
नकली मुद्रा संबंधी मामले में दर्ज किया गया केस 
राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के एक अधिकारी ने कहा, डीआरआई यूनिट मालदा, पश्चिम बंगाल द्वारा एक आरोपी के कब्जे से 1,99,000 रुपये के उच्च गुणवत्ता वाले नकली भारतीय मुद्रा नोटों की बरामदगी के संबंध में मामला दर्ज किया गया था। इसके बाद जांच शुरू कर दी गई थी। उन्होंने बताया कि, जांच पूरी करने के बाद एनआईए ने अलाडू सहित चार आरोपी व्यक्तियों के खिलाफ एफआईसीएन तस्करी में उनकी भूमिका के लिए आरोप पत्र दायर किया था। एनआईए ने अपने दावे को साबित करने के लिए कई सबूत और बरामदगी दिखाई थी। इसके अलावा एनआईए ने अभियोजन पक्ष के मामले को साबित करने के लिए कई गवाहों के बयानों का भी उल्लेख किया था।
वर्ष 2019 से फरार था आरोपी : एनआईए अधिकारी  
अधिकारीयों ने बताया कि, एनआईए ने पाया कि अलाडू अपने बांग्लादेशी सहयोगियों से उच्च गुणवत्ता वाले एफआईसीएन की खरीद में शामिल था। वह देश की आर्थिक स्थिरता को नुकसान पहुंचाने के इरादे से भारत में इसे प्रसारित कर रहा था।एनआईए के एक अधिकारी ने कहा, गिरफ्तार आरोपी अलाडू 2019 से फरार था। मामले में आगे की जांच जारी है।

facebook twitter instagram