+

Bihar Election 2020 : अपने गृह ज़िले में नीतीश की बड़ी परीक्षा, क्या जीत पाएंगे

15 साल से सरकार में सुशासन का दावा करने वाले नीतीश कुमार की प्रतिष्ठा यूं तो पूरे चुनाव से जुड़ी है लेकिन गृह जिला नालंदा में भी उनकी अग्निपरीक्षा है। दूसरे चरण में नीतीश के नालंदा की सभी सात सीटों पर मतदान है।
Bihar Election 2020 : अपने गृह ज़िले में नीतीश की बड़ी परीक्षा, क्या जीत पाएंगे

15 साल से सरकार में सुशासन का दावा करने वाले नीतीश कुमार की प्रतिष्ठा यूं तो पूरे चुनाव से जुड़ी है लेकिन गृह जिला नालंदा में भी उनकी अग्निपरीक्षा है। दूसरे चरण में नीतीश के नालंदा की सभी सात सीटों पर मतदान है। इसी के साथ पटना की 14 सीटों में से 9 सीटों पर दूसरे चरण में मतदान होना है।

मगध की राजधानी पटना और ज्ञान की भूमि नालंदा के चुनावी मुद्दे अलग-अलग हैं। नालंदा में किसानों का मुद्दा बड़ा है तो पटना में शहरी सुविधाओं की कमी बड़ा मुद्दा। एक साल पहले बरसात में डूबा शहर, दाना-पानी के लिए तरसे लोग और सड़क पर उतराती सरकार की तस्वीर सभी की जेहन में है।

नालंदा में खेती, रोजगार और शिक्षा-चिकित्सा पर बहस छिड़ी है। नीतीश के गृह जिले की 7 सीटों में से 5 सीटों पर जदयू का कब्जा है। एक पर भाजपा तो एक सीट पर राजद है। इस बार जदयू 6 सीटों पर चुनाव लड़ रहा है। भाजपा के खाते में एक सीट गई है। नालंदा सीट से नीतीश सरकार के मंत्री श्रवण कुमार जदयू उम्मीदवार हैं। यह नीतीश का गृह विधानसभा क्षेत्र है। इसलिए कहा यह भी जाता है कि नाम चाहे किसी का हो जदयू से यहां खुद नीतीश ही मैदान में होते हैं।

भापजा को लगा बड़ा धक्का 4 बड़े नेता हुए आईसोलेट, बिहार चुनाव से रहेंगे दूर

श्रवण कुमार यहां से 6 चुनाव जीत चुके हैं। कांग्रेस ने यहां गुंजन पटेल को मैदान में उतारा है।पिछले चुनाव में पटना और नालंदा जिले की कुल 21 सीटों में से भाजपा 8, जदयू 6, राजद 5, कांग्रेस और निर्दलीय ने एक-एक सीट पर जीत दर्ज की थी। पटना जिले की 14 सीटों में से भाजपा के खाते में 7, राजद 4, जदयू, कांग्रेस और निर्दलीय को एक एक सीट मिली।  नालंदा जिले की 7 सीटों  में से जदयू को 5, भाजपा और राजद को एक एक सीट मिली थी।

facebook twitter instagram