+

हड़ताल पर गईं पटना एम्स की 400 नर्सें हड़ताल, बिहार में कोरोना मरीजों की बढ़ी परेशानी

हड़ताल पर गई नर्सें एम्स के मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर अपना काम बंद कर खड़ी हो गई। नर्सें एम्स की शुरुआत से ही कॉन्ट्रैक्ट्स पर काम कर रही हैं।
हड़ताल पर गईं पटना एम्स की 400 नर्सें हड़ताल, बिहार में कोरोना मरीजों की बढ़ी परेशानी
कोरोना संकट से बुरी तरह जूझ रहे बिहार में पटना एम्स की 400 कॉन्ट्रैक्चुअल नर्सें हड़ताल पर चली गई हैं। पटना एम्स ही बिहार का इकलौता केंद्रीय हॉस्पिटल है, जहां कई वीवीआईपी कोरोना मरीजों का इलाज चल रहा है। नर्सों की इस हड़ताल ने कोरोना बुरी तरह प्रभावित बिहार की मुश्किलें बढ़ दी हैं।
हड़ताल पर गई नर्सें एम्स के मुख्य प्रवेश द्वार के बाहर अपना काम बंद कर खड़ी हो गई। नर्सें एम्स की शुरुआत से ही कॉन्ट्रैक्ट्स पर काम कर रही हैं। हड़ताल कर रही नर्सों ने मांग की है कि एम्स में उन्हें परमानेंट किए जाने के साथ ही कोरोना काल में उनके  के बीमार पड़ने और भविष्य में उनके स्वास्थ्य से संबंधित कोई तकलीफ होने पर उन्हें भी परमानेंट कर्मचारी की तरह ही मेडिकल सुविधा उपलब्ध कराई जाए।
हड़ताल पर गई नर्सों की प्रमुख मांगों में केंद्र सरकार के नियम एवं नीतियों को देखते हुए समान काम के लिए समान वेतन और उन्हें स्थाई कर्मचारी की तरह अवकाश दिया जाना शामिल है। पटना एम्स को कोविड-19 अस्पताल के रूप में चिन्हित किया गया है, जहां बड़ी संख्या में इससे संक्रमित मरीजों का इलाज चल रहा है। इस बीच कर्मचारियों की हड़ताल को देखते हुए अस्पताल परिसर में भारी संख्या में पुलिस बल की तैनाती कर दी गई है।
वहीं एम्स प्रशासन कहना है कि हमने कुछ मांग को मान लिया है। हालांकि अभी भी नर्सों की हड़ताल जारी है। इसका खामियाजा मरीजों को उठाना पड़ रहा है। गौरतलब है कि बिहार में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 30 हजार 369 को पार कर गया है, जिसमें 217 लोगों की मौत हो चुकी है।
 
Tags : ,nurses,strike,Corona,Bihar,AIIMS,beginning,entrance
facebook twitter