फरीदाबाद के असावटी में बूथ नंबर 88 पर 65 प्रतिशत मतदान

पलवल : पृथला विधानसभा क्षेत्र के गांव असावटी स्थित बूथ नंबर 88 पर रविवार को दोबारा मतदान हुआ। मतदान को निष्पक्ष और शांतिपूर्वक करवाने के लिए चप्पे -चप्पे पर पुलिस मुस्तैद रही। मतदान शुरू होने के कुछ देर बाद पहुंचे कांग्रेसी प्रत्याशी अवतार भडाना बूथ पर पहुंचे तो बूथ पर पहुंचते ही भाजपा समर्थको ने मोदी-मोदी के नारे लगाए। नारे लगाने वालों को थोडी देर बाद ही पुलिस ने खदेड दिया। कांग्रेसी प्रत्याशी भडाना नारे लगाने वालों को गुंडा कहते हुए मौके से खिसक गए। मतदान के दौरान चारो तरफ पुलिस ने मौर्चा स भाले रखा। मतदान केन्द्र के अंदर 100 मीटर के दायरे में धारा 144 लागू की हुई थी।

मतदान केन्द्र के बाहर पुलिस ने जगह-जगह नाके लगाए हुए थे। मतदान केन्द्र के बाहर और अंदर सीमा सुरक्षा बल के जवान तैनात किए हुए थे। मतदान केन्द्र के अंदर जाने वाले एक-एक व्यक्ति की तलाशी ली गई। तलाशी के बाद ही मतदान केन्द्र के अंदर जाने दिया गया। मतदान करने वालों के पास केवल वोटर आईडी कार्ड के अलावा सभी सामान बाहर रखवाया गया। यहां तक बुजुर्ग महिलाओं तक भी तलाशी ली गई। कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए एसपी नरेन्द्र बूथ पर मौजूद रहे। फरीदाबाद के डीसी अशोक गर्ग भी मौके पर मौजूद रहे। बूथ नंबर के चारों तरफ फरीदाबाद व पलवल पुलिस का स त पहरा रहा।

एसडीएम जितेन्द्र कुमार और डीएसपी हितेश यादव पल-पल की निगरानी करते रहे। किसी भी प्रकार की गडबड़ी को कंट्रोल के लिए नायब तहसीलदार प्रेम प्रकाश तथा पृथला की खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी पूजा शर्मा बतौर डयूटी मैजिस्ट्रेट मौजूद रही। गेट पर पुलिस ने कई निर्दलीय प्रत्याशियों को मतदान केन्द्र के अंदर तक नहीं जाने दिया। बुजुर्ग व्यक्ति के साथ भी केवल एक व्यक्ति को जाने की अनुमति रही। मतदान के समय असावटी गांव में आग्नेय हथियार, तलवार, गंडासा, चाकू, जेली, बरछा, भाला आदि लेकर नहीं चले इसके लिए गांव के एंट्री गेटों पर भी पुलिस कर्मचारी मौजूद रहे।

12 मई को फर्जी वोटिंग का वीडियों वायरल होने से इन पर गिर चुकी है गाज। गौरतलब है कि बीती 12 मई को फर्जी वोटिंग के चलते बूथ नंबर 88 के दो वीडियों वायरल हुए। वीडियों के आधार पर चुनाव आयोग ने कार्रवाही करते हुए फरीदाबाद के डीसी अतुल द्विवेदी का तबादला किया। गांव के सरपंच कनछिद्र को डीसी मनीराम शर्मा ने सस्पेंड कर दिया। थाना सदर के एसएचओ कुलदीप को लाइन हाजिर किया गया। बीजेपी एजेंट गिर्राज, पीठासीन अधिकारी अमित अत्री व विजय रावत नामक युवक के खिलाफ दो अलग-अलग मामले दर्ज किए जा चुके हैं।

– भगत सिह

Download our app