+

पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रों में 99 जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण हो रहा है : मुख्तार अब्बास नकवी

पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रों में 99 जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण कर रहा है और इनमें से कई विद्यालयों को बनाने में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भी साझेदार है
पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रों में 99 जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण हो रहा है : मुख्तार अब्बास नकवी
केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने मंगलवार को कहा कि केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय देश भर में कमजोर, पिछड़े एवं अल्पसंख्यक क्षेत्रों में 99 जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण कर रहा है और इनमें से कई विद्यालयों को बनाने में अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय भी साझेदार है। 
नकवी ने केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक के साथ झारखंड के पाकुड में नए जवाहर नवोदय विद्यालय का वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से शिलान्यास करते हुए यह टिप्पणी की। इस जवाहर नवोदय विद्यालय का निर्माण अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत किया जा रहा है। 
अल्पसंख्यक कार्य मंत्री ने कहा ‘‘अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय द्वारा प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम के तहत उत्तर दिनाजपुर और हावड़ा (पश्चिम बंगाल); पश्चिम कामेंग (अरुणाचल प्रदेश); मामित (मिजोरम) में 4 जवाहर नवोदय विद्यालय का निर्माण केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के साथ मिल कर किया जा रहा है।
उनके मुताबिक, इसके लिए केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय 244 करोड़ रूपए का सहयोग कर रहा है। इसके अलावा अन्य स्थानों पर भी केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय, शिक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर जवाहर नवोदय विद्यालयों का निर्माण कराएगा। 
नकवी ने कहा कि अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय ने पिछड़े एवं अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में जवाहर नवोदय विद्यालयों में 1173 स्मार्ट कक्षाएं बनाने हेतु 36 करोड़ की राशि दी है। 
उन्होंने कहा कि इन जवाहर नवोदय विद्यालयों के निर्माण से ग्रामीण क्षेत्रों में पिछड़े एवं अल्पसंख्यक वर्ग के बच्चों को भी गुणवत्तापूर्ण आधुनिक शिक्षा उपलब्ध कराने में मदद मिलेगी। 
नकवी ने कहा कि पिछले लगभग 6 वर्षों के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने प्रधानमंत्री जन विकास कार्यक्रम (पीएमजेवीके) के तहत देश भर के पिछड़े एवं अल्पसंख्यक बाहुल्य क्षेत्रों में आर्थिक-शैक्षिक-सामाजिक एवं रोजगारपरक गतिविधियों के लिए बड़ी संख्या में अवसंरचना का निर्माण कराया है। 

facebook twitter instagram