+

'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक

हार्दिक पटेल ने कहा कि राज्य के कांग्रेस नेताओं में बीजेपी से मुकाबला करने की हिम्मत और लड़ाई की भावना नहीं है।
'कुछ नेता ही कांग्रेस के राष्ट्रीय नेतृत्व को कर रहे हैं गुमराह', इस्तीफे के बाद बोले हार्दिक
कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देने के एक दिन बाद ही हार्दिक पटेल ने पुरानी पार्टी की जमकर आलोचना की। इतना ही नहीं उन्होंने पार्टी को जातिवादी बताते हुए कहा कि गुजरात के विकास के लिए उनके पास कभी कोई विजन नहीं है, इसके विपरीत पार्टी के नेता नकारात्मकता से भरे हुए हैं। उन्होंने किसी वरिष्ठ नेता का नाम लिए बिना आरोप लगाया कि केवल आठ से दस नेता ही पार्टी को नियंत्रित करते हैं और वे राष्ट्रीय नेतृत्व को गुमराह कर रहे हैं। 
गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वर्गीय चिमन पटेल, नरहरि अमी और विट्ठल रदडिया का उदाहरण देते हुए हार्दिक पटेल ने कहा कि उनके साथ अन्याय सिर्फ इसलिए किया गया क्योंकि वे पाटीदार थे। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि कांग्रेस नेता पटेल के लेउवा और कडवा उप समूहों को विभाजित करने में विश्वास करते हैं।
उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि एक परिवार पिछले 12 वर्षों से कांग्रेस पार्टी की राज्य इकाई को नियंत्रित करता है, हालांकि उन्होंने इसका नाम नहीं लिया, लेकिन माधवसिंह सोलंकी की ओर इशारा किया, जिनके बेटे भरतसिंह सोलंकी को पिछले एक दशक में दो बार जीपीसीसी अध्यक्ष बनाया गया, तो वहीं उनके चचेरे भाई अमित चावड़ा को प्रदेश इकाई का अध्यक्ष बनाया गया। 
कांग्रेस में बीजेपी से मुकाबला करने की हिम्मत नहीं 
हार्दिक पटेल ने कहा कि राज्य के कांग्रेस नेताओं में बीजेपी से मुकाबला करने की हिम्मत और लड़ाई की भावना नहीं है। उन्होंने सवाल किया कि ऐसी पार्टी कैसे लोगों के मुद्दों को उठा सकती है, उनके लिए लड़ सकती है और न्याय पा सकती है। हार्दिक के मुताबिक प्रदेश कांग्रेस के नेता राहुल गांधी के लिए डाइट कोक या चिकन सैंडविच का इंतजाम कर उन्हें खुश रखने में ज्यादा दिलचस्पी दिखा रहे हैं। 
कांग्रेस में शामिल होकर बर्बाद किए 3 साल
हार्दिक ने कहा, "उन्होंने महसूस किया कि उन्होंने कांग्रेस में शामिल होकर अपने करियर के तीन साल बर्बाद कर दिए। उन्होंने लोगों से कांग्रेस को वोट न देने की अपील की, क्योंकि पार्टी की लोगों की सेवा करने में कोई दिलचस्पी नहीं है। 2022 में राज्य के चुनावों के बाद, कांग्रेस विपक्षी बेंचों पर दिखाई नहीं दे सकती है और लोग कोई अन्य विकल्प आजमा सकते हैं।" 
उन्होंने कहा कि उनका मानना है कि देश या राज्य में कड़ा विरोध होना चाहिए, लेकिन उनके अनुसार कांग्रेस उस दर्जे के लायक नहीं है। हार्दिक पटेल ने 'कांग्रेस मुक्त भारत' का भी समर्थन किया। हार्दिक पटेल ने पिछले एक महीने से हिंदू कार्ड खेलना शुरू कर दिया है, लेकिन साथ ही दावा किया कि हिंदू धर्म के बारे में उनका विश्वास दिखावे के लिए नहीं है।
facebook twitter instagram