+

निहत्थे किसानों पर वाटर कैनन के बजाए PM को समझाएं CM खट्टर : अभय चौटाला

अभय सिंह चौटाला ने कहा कि किसान इन कानूनों को लागू करने को लेकर राजी नहीं है, तो ऐसे में प्रधानमंत्री का दायित्व बनता है कि इन कानूनों को वापस लेने का काम करें।
निहत्थे किसानों पर वाटर कैनन के बजाए PM को समझाएं CM खट्टर : अभय चौटाला
हरियाणा में करनाल जिले के कैमला गांव में मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के ‘किसान महापंचायत’ कार्यक्रम का विरोधज कर रहे किसानों पर पुलिस ने वाटर कैनन और आंसू गैस के गोले दागे। इस पर इंडियन नेशनल लोकदल (इनेलो) के प्रधान महासचिव एवं ऐलनाबाद के विधायक अभय सिंह चौटाला ने मुख्यमंत्री खट्टर पर निशाना साधा।
इनेलो नेता ने कहा कि मुख्यमंत्री खट्टर किसानों को शांत करने की बजाय समांतर आयोजन कर किसानों को और अधिक उग्र करने का काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा तीनों कृषि कानून किसानों के लिए डेथ वारंट हैं। उन्होंने कहा कि किसान इन कानूनों को लागू करने को लेकर राजी नहीं है, तो ऐसे में प्रधानमंत्री का दायित्व बनता है कि इन कानूनों को वापस लेने का काम करें। 

करनाल में बवाल, CM खट्टर की 'महापंचायत' का विरोध कर रहे किसानों पर लाठीचार्ज

अभय चौटाला ने आरोप लगाया कि मनोहर लाल खट्टर जैसे नेता ही प्रधानमंत्री को गुमराह कर रहे हैं कि हरियाणा व दिल्ली की सरहद पर बैठे किसान बड़े किसान हैं, जबकि हकीकत यह है कि इस आंदोलन में हरियाणा, पंजाब राजस्थान, उत्तर प्रदेश व मध्य प्रदेश आदि राज्यों से मजदूर, मंझले किसान, बड़े किसान, व्यापारी व आढ़ती सब शामिल हैं।
उन्होंने दावा किया कि इससे भी बढ़कर अब यह आंदोलन मात्र किसान का न रहकर आमजन का हो गया है। अभय चौटाला ने दोहराया कि वह 26 जनवरी के बाद ऐलनाबाद विधानसभा क्षेत्र से विधानसभा में अपनी सदस्यता से इस्तीफा देने की बात पर अटल हैं।


facebook twitter instagram