शराब के गोरखधंधे में संलिप्त पुलिस अधिकारियों पर कार्रवाई हो : नीतीश

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राज्य में बिगड़ती कानून-व्यवस्था को लेकर 20 दिनों के अंदर मंगलवार को दूसरी बार वरिष्ठ अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की। इस दौरान मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन पुलिस अधिकारियों की शराब के धंधेबाजों के साथ मिलीभगत हो, उनके खिलाफ विभागीय स्तर पर कड़ी कार्रवाई हो। मुख्यमंत्री ने पुलिस गश्त बढ़ाने पर भी जोर दिया। 

मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में अपराध नियंत्रण के लिए पुलिस गश्त लगातार करते रहने की जरूरत पर बल देते हुए कहा कि गश्ती वाहनों में जी़ पी़ एस़ तकनीक को उपयोग में लाए जाने की जरूरत है। 

मुख्यमंत्री ने प्रत्येक थाने में लगाए जाने वाले कंप्यूटर, डाटा ऑपरेटर, इंटरनेट के कार्य में भी तेजी लाने के निर्देश दिए और कहा, 'प्रत्येक थाने में लैंड लाइन फोन की उपलब्धता हो और कानून-व्यवस्था दुरुस्त बनाए रखने के लिए व्यवस्था में सुधार किया जाए। विशेष शाखा के स²ढ़ीकरण से पुलिस कार्यो की गुणवत्ता में और सुधार आएगा।'

नीतीश कुमार ने शराब के धंधेबाजों को पकड़ने के लिए गंभीरतापूर्वक मंथन करने और उसके लिए मुस्तैद रहने पर बल देते हुए वरिष्ठ अधिकारियों को निर्देश दिया कि जिन पुलिस अधिकारियों की शराब के धंधेबाजों के साथ मिलीभगत हो, उनके खिलाफ भी विभागीय स्तर पर कड़ी कार्रवाई की जाए। 

मुख्यमंत्री ने कहा, 'शराबबंदी से समाज के वातावरण में काफी बदलाव आया है। अगर यहां के अधिकारी और यहां के लोग शराबबंदी को खत्म करने के लिए पूरे भावनात्मक तौर पर इसके पीछे लग जाएं, तो यह पूर्णत: प्रभावकारी होगा और देश में एक मिसाल बनेगा। इसके लिए सभी को प्रेरित करने की जरूरत है।'

बैठक में मुख्य सचिव दीपक कुमार, अपर मुख्य सचिव (गृह) आमिर सुबहानी, पुलिस महानिदेशक गुप्तेश्वर पांडेय, पुलिस महानिदेशक और भवन निर्माण निगम के प्रबंध निदेशक सुनील कुमार, मुख्यमंत्री के सचिव मनीष कुमार वर्मा, मुख्यमंत्री के सचिव अनुपम कुमार सहित कई अधिकारी मौजूद रहे। 
Tags : ,police officers,liquor vendors,Nitish