+

आफताब शिवदासानी ने बॉलिवुड में गुटबाजी पर कहा- मैं किसी को नहीं बनाना चाहता था अपना मालिक

फिल्म इंडस्ट्री में साल 1999 में 'मस्त' फिल्म से अभिनेता आफताब शिवदासानी ने कदम रखा था। इस फिल्म में एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर उनके साथ थी। वैसे तो फिल्मों मैं बाल कलाकार
आफताब शिवदासानी ने बॉलिवुड में गुटबाजी पर कहा- मैं किसी को नहीं बनाना चाहता था अपना मालिक
फिल्म इंडस्ट्री में साल 1999 में 'मस्त' फिल्म से अभिनेता आफताब शिवदासानी ने कदम रखा था। इस फिल्म में एक्ट्रेस उर्मिला मातोंडकर उनके साथ थी। वैसे तो फिल्मों मैं बाल कलाकार के रूप में आफताब काम किया हुआ है। उन्होंने सुपरहिट फिल्म 'मिस्टर इंडिया' में भी बाल कलाकार के रूप में काम किया था। 


उसके बाद बॉलीवुड में मस्ती, आवारा पागल दीवाना, हंगामा जैसी कई फिल्मों में आफताब ने काम किया हुआ है। उन्हें सफल सोलो हीरो के रूप में भी जाना जाता है। हालांकि फिल्म इंडस्ट्री में इतना समय बिताने के बाद भी किसी एक प्रॉडक्शन हाउस या बॉलिवुड के किसी खास कैंप का हिस्सा आफताब नहीं बने हैं। 

'नहीं बना किसी भी कैंप का मैं हिस्सा'


एक्टर आफताब शिवदासानी ने एक न्यूज़ एजेंसी को हाल ही में एक्सक्लूसिव इंटरव्यू दिया जिसमें उन्होंने कई मुद्दों पर अपने विचार रखे। आफताब से जब बॉलिवुड में कैंप और ग्रुप्स के बारे में सवाल किया गया तो जवाब देते हुए उन्होंने कहा, इस ग्रुपिजम को साल 2000 के आसपास कैंपिजम बोला जाता था जहां लोग कहते थे कि यह ऐक्टर यशराज, भट्ट या किसी और कैंप से जुड़ा हुआ है। मेरे बारे में कभी ऐसा नहीं हो सका क्योंकि मैंने बहुत सारे प्रड्यूसर्स के साथ काम किया और मैं सभी से फ्रेंडली था लेकिन क्लोज किसी के नहीं था।

'मेरे दूर के रिश्तेदार हैं करण जौहर'


आफताब ने आगे बताया, मैंने 9 फिल्में विक्रम भट्ट के साथ और 5-6 फिल्में रामगोपाल वर्मा के साथ कीं लेकिन मैं कभी उनके कैंप का हिस्सा नहीं बना। करण जौहर तो मेरे दूर के रिश्तेदार भी हैं लेकिन मैं कभी भी किसी का नजदीकी नहीं रहा। मैं सभी के साथ फ्रेंडली रहा इसलिए मेरा कोई दुश्मन भी नहीं है। इसलिए मैंने खुद को इस ग्रुपिजम और कैंपिजम से खुद को हमेशा दूर ही रखा है।

'नहीं बनना चाहिए मिस्टर इंडिया का रीमेक'


आफताब ने अपने कैरियर में कुछ किरदारों को छोड़ने पर कहा, मैंने बहुत सी फिल्में और किरदार रिजेक्ट कर दिए। मुझे बहुत से ऐसे रोल ऑफर किए गए जिनमें मैं थर्ड या फोर्थ लीड में था और ऐसे रोल मैं नहीं करना चाहता था। इसलिए मैंने बिल्कुल इज्जत के साथ इन फिल्मों के लिए मना कर दिया। दरअसल मिस्टर इंडिया में चाइल्ड आर्टिस्ट के तौर पर आफताब ने काम किया था। इस फिल्म के रीमेक की चर्चा हाल ही में सामने आई थी। उनसे जब इस बारे में पूछा गया तो उन्होंने जवाब देते हुए कहा, कुछ फिल्में ऐसी होती हैं जिन्हें दोबारा नहीं बनाया जाना चाहिए। मुझे लगता है कि शायद आगे की कहानी कर जाए लेकिन रीमेक तो बिल्कुल नहीं बनाया जाना चाहिए।
facebook twitter