+

अफगानिस्तान : धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला

इस्लामिक आतंकवाद बच्चों को छोड़ नहीं हैं , क्रूरता का मजंर ऐसा हैं की स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को आतंकवादी उड़ा रहे हैं। काबुल के एक स्कूल में आज एक फिदायीन हमले में १०० बच्चों की जान लील ली गई हैं। जि
अफगानिस्तान :  धमाके में बिखर गए मासूमों के शरीर, काबुल के स्कूल में फिदायीन हमला
इस्लामिक आतंकवाद बच्चों को छोड़ नहीं हैं , क्रूरता का मजंर ऐसा हैं की स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को आतंकवादी उड़ा रहे हैं।  काबुल के एक स्कूल में आज एक फिदायीन हमले में 100 बच्चों की जान लील ली गई हैं। जिसके बाद मानव संवेदनाए सिहर उठी हैं।  धमाके की चपेट में आने वाले बच्चों के शवों को पहचानना भी मुश्किल हो रहा हैं, क्योंकि बच्चों के शरीर का धमाके में टुकड़ों में बिखर गया हैं।   काबुल के एक पत्रकार ने ट्वीट कर जानकारी दी हैं "हमने अब तक अपने छात्रों के 100 शवों की गिनती की है। मारे गए छात्रों की संख्या बहुत अधिक है। कक्षा खचाखच भरी थी। वे छात्र विश्वविद्यालय में दाखिले की तैयारी के लिए जमा हुए थे।"
काबुल के पत्रकारों का कहना हैं कि यह शियाओं व हजारा समुदाय के बच्चे हैं , हजारा समुदाय अफगानिस्तान में तीसरे नंबर पर आता हैं।  तालिबान शासन में हजारा समुदाय सुरक्षित महसूस नहीं कर रहा हैं , हजारा समुदाय पर आए दिन बम विस्फोट व गोलिया के मार दिए जाते हैं।  तालिबान को सबसे बड़ी चुनौती इसी समुदाय ने दी हैं।  
लीथड़ो में बिखर गए मासूमों के शरीर
एक पत्रकार ने भयावहता को याद करते हुए कहा कि  आज सभी बच्चों को केंद्र के एक शिक्षक ने बच्चों के अंगों को उठाया। कहीं हाथ पड़े थे, कहीं पैर। ट्विटर पर विस्फोट से पहले का एक वीडियो भी साझा किया गया था जहां आतंकियों ने बम धमाका किया था।
आपको बता दे की अफगानिस्तान में तालिबान शासन आने के बाद से ही आंतकी हमलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही हैं, लेकिन अफगानिस्तान में आतंकी शिया या हजारा समुदाय व अल्पसंख्यक पर अधिकांश हमला करते हैं ।

facebook twitter instagram