+

महंगाई को लेकर अखिलेश के BJP पर वार, कहा-यह सरकार नहीं चाहती कि लोग जन्माष्टमी मनाएं

समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने सत्ताधारी बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि दुग्ध उत्पादों पर जीएसटी लगाकर यह सरकार नहीं चाहती कि लोग जन्माष्टमी मनाएं।
महंगाई को लेकर अखिलेश के BJP पर वार, कहा-यह सरकार नहीं चाहती कि लोग जन्माष्टमी मनाएं
महंगाई को लेकर कांग्रेस समेत कई विपक्षी दल केंद्र सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस महंगाई और बेरोजगारी के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन कर रही है। वहीं दूसरी तरफ समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव ने सत्ताधारी बीजेपी पर हमला बोलते हुए कहा कि दुग्ध उत्पादों पर जीएसटी लगाकर यह सरकार नहीं चाहती कि लोग जन्माष्टमी मनाएं।
सपा प्रमुख ने शुक्रवार को संवाददाताओं से बातचीत में कहा, ‘‘बीजेपी को महंगाई से कोई लेनादेना नहीं है। उन्होंने दूध और दही पर जीएसटी लगा दिया है। यदि कोई बाबा भोलेनाथ पर एक पैकेट दूध चढ़ाना चाहे तो क्या उसे कर नहीं देना पड़ेगा। यह सरकार चाहती है कि लोग जन्माष्टमी तक ना मनाएं।’’

मुम्बई में हिरासत में लिए गए महाराष्ट्र कांग्रेस के नेता, महंगाई के खिलाफ कर रहे थे प्रदर्शन

जनेश्वर मिश्रा पार्क में समाजवादी नेता जनेश्वर मिश्रा की जयंती पर उन्हें पुष्प अर्पित करने के बाद अखिलेश यादव ने केंद्र सरकार के ‘हर घर तिरंगा’ अभियान के बारे में कहा, ‘‘देश को यह एहसास करना होगा कि भाजपा, राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) की राजनीतिक शाखा है और यदि हम उनका (आरएसएस) इतिहास देखें तो उन्होंने वर्षों तक अपने स्थान पर तिरंगा झंडा नहीं लगाया।’’
उन्होंने कहा, ‘‘मैं आगाह करना चाहता हूं कि बीजेपी तिरंगा यात्रा के नाम पर दंगे करवा सकती है। आप सभी को याद रखना चाहिए कि कासगंज में क्या हुआ। कैसे बीजेपी कार्यकर्ताओं ने तिरंगा यात्रा के नाम पर दंगे किए।’’ उल्लेखनीय है कि कासगंज में मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र में तिरंगा मोटरसाइकिल रैली निकाल रहे युवकों के साथ झगड़े के बाद 26 जनवरी, 2018 को हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच हिंसा भड़क गई थी।

कांग्रेस का ब्लैक फ्राइडे...सियासत गर्माई! राहुल के बाद प्रियंका को भी हिरासत में लिया गया, बोलीं- जनता महंगाई से परेशान

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि बढ़ती आपराधिक घटनाओं के बीच उत्तर प्रदेश एक ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था वाला राज्य नहीं बन सकता। पिछ़ड़ी जाति के लोगों, दलितों और मुस्लिमों को बीजेपी शासन में सबसे अधिक तकलीफ उठानी पड़ी है। अखिलेश यादव ने कहा कि जब उनकी पार्टी सत्ता में आएगी तो जाति आधारित जनगणना उत्तर प्रदेश में कराई जाएगी।

facebook twitter instagram