+

विजय कुमार सिन्हा को विधानसभा अध्यक्ष चुने जाने पर सभी दलों ने दिया बधाई

महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव ने विजय कुमार सिन्हा को नये स्पीकर चुने जाने पर बधाई देते हुए कहा कि लोकतंत्र में आसन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सदन में सत्ता एवं प्रतिपक्ष के बीच सामंजस्य बैठाकर चलना होता है।
विजय कुमार सिन्हा को विधानसभा अध्यक्ष चुने जाने पर सभी दलों ने दिया बधाई
पटना, (पंजाब केसरी) : बिहार विधानसभा अध्यक्ष के चुनाव के बाद सदन में बधाई की सिलसिला जारी रहा। सदन में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बधाई की औपचारिकता को पूरा करते हुए कहा कि लोकतंत्र में स्पीकर का पद निष्पक्ष एवं पारदर्शी हो। आसन सत्ता एवं प्रतिपक्ष की कटु से कटु आलोचनाओं को पारदर्शी एवं निष्पक्ष तरीके से सत्य के कसौटी पर उतारने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है। हमें पूर्ण विश्वास है कि सदन में स्पीकर सत्ता एवं प्रतिपक्ष की बातों को सुनकर निष्पक्ष भाव से भूमिका का निर्वहन करेंगे। साथ ही लोकतंत्र में सदन नियम एवं कानून से बंधे होने के कारण सभी सदस्य नियम का पालन करेंगे। इसके लिए नये स्पीकर विजय कुमार सिन्हा के साथ सभी मंत्री एवं विधानसभा सदस्यों को बधाई देता हूं।
महागठबंधन के नेता तेजस्वी यादव ने विजय कुमार सिन्हा को नये स्पीकर चुने जाने पर बधाई देते हुए कहा कि लोकतंत्र में आसन की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। सदन में सत्ता एवं प्रतिपक्ष के बीच सामंजस्य बैठाकर चलना होता है। सदन में सभी सदस्यों को अपनी बात रखने का अधिकार है। अध्यक्ष सबकी बात मानते हुए सदन के कार्य संचालन एवं नियमावली को प्रधानता देते हुए कार्य करते हें लेकिन आज सदन में विपक्ष की आवाज को दबाने की परंपरा चलने लगी है वह ठीक नहीं है। आसन को चाहिए कि निष्पक्ष एवं पारदर्शी भाव से संविधान का संरक्षण करते हुए लोकतंत्र को बचाये। हम लोकतंत्र की जननी वैशाली से चुनाव जीत कर आते हैं। आप आसन पर हैं। मेरा संरक्षण कर ना आपका अधिकार है। लोकतंत्र में प्रतिपक्ष का माखौल नहीं उड़ाना चाहिए। संविधान नियम एवं कानून से चलती है। इसका पालन करना चाहिए।
कांग्रेस विधायक दल के नेता अर्जीत शर्मा ने कहा कि स्पीकर महोदय जनता के आकांक्षाओं एवं आशाओं के अनुरूप खड़े उतरेंगे। इसके लिए पुनः बधाई देता हूं। भाकपा-माले के नेता महबूब आलम ने बधाई देते हुए कहा कि लोकतंत्र में संविधान में जो संरक्षण दिया गया है लेकिन लोकतंत्र की परंपरा एवं दुहाई देकर कराया गया। संसदीय परंपरा एवं लोकतंत्र की हत्या कर दी गयी। कौन ऐसी समस्या आ पड़ी कि स्पीकर के चुनाव में सदन की कार्यवाही बीच में स्थगित कर दी गयी। बधाई देने वा लों में पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, उपमुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद, उपमुख्यमंत्री रेणु देवी पशु एवं मत्स्य संसाधन मंत्री मुकेश सहनी, एआईएमआईएम के अख्तारूल इमाम, लोजपा के राजकुमार ‌सिंह, माकपा के राज रतन सिंह इत्यादि शामिल थे।

ललन पासवान बोले-मुझे लगा लालू जी ने बधाई देने के लिए फोन किया, लेकिन वे सरकार गिराने की बात करने लगे



facebook twitter instagram