+

चीन से तनातनी के बीच भारत की एक और 'डिजिटल स्ट्राइक', 47 चाइनीज ऐप को किया बैन

सूत्रों के अनुसार करीब 250 चाइनीज ऐप्स की एक सूचि बनाई जा रही है जिनकी जांच की जानी है। इन ऐप्स पर यूजर की गोपनीयता को भंग करने का आरोप है।
चीन से तनातनी के बीच भारत की एक और 'डिजिटल स्ट्राइक', 47 चाइनीज ऐप को किया बैन
चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर बढ़ते तनाव के बीच भारत सरकार ने सोमवार को 47 और चीनी ऐप को प्रतिबंधित कर दिया है। फिलहाल इन प्रतिबंधित हुए ऐप की सूची जारी नहीं की गयी है।  मिली जानकारी के अनुसार सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय के तरफ से जल्द बैन हुए ऐप की लिस्ट जारी कर दी जाएगी।  वहीं इससे पहले 59 चाइनीज ऐप को भारत में बैन कर दिया गया था। 
सूत्रों के अनुसार करीब 250 चाइनीज ऐप्स की एक सूचि बनाई जा रही है जिनकी जांच की जानी है। इन ऐप्स पर यूजर की गोपनीयता को भंग करने का आरोप है। वहीं जानकारी के अनुसार जिन ऐप्स की जांच की जा रही है उसमें अलीबाबा, PUBG, टेनसेंट, शिओमी और अन्य कई एप शामिल हैं।
इससे पहले इन चीनी 59 मोबाइल ऍप्लिकेशन्स को किया जा चुका है बैन 
गौरतलब है कि इससे पहले भारत ने चीनी 59 मोबाइल ऍप्लिकेशन्स की लिस्ट में टिकटोक, शेयरइट, यूसी ब्राउज़र, Baidu मैप, हेलो, एमआई कॉमनिटी, क्लब फैक्ट्री, वीचैट, यूसी न्यूज़, वीबो, ज़ेंडर, मीटू, कैमरून और क्लीन मास्टर - चीता मोबाइल शामिल था।
एक सरकारी प्रेस विज्ञप्ति में प्रतिबंध की घोषणा करते हुए कहा था कि : "सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69A के तहत इसे लागू कर रहा है, जो सूचना प्रौद्योगिकी के प्रासंगिक प्रावधानों (प्रक्रिया और सुरक्षा उपायों के साथ सूचना के प्रसार को रोकने के लिए सार्वजनिक नियमों) के नियमों के साथ है। महत्वपूर्ण और निजी जानकारियों को हुए खतरे के मद्देनजर 59 एप्स को ब्लॉक करने का फैसला किया है क्योंकि उपलब्ध जानकारी के मद्देनजर वे ऐसी गतिविधियों में लगे हुए हैं जो भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए पूर्वाग्रही हैं ”।
प्रेस विज्ञप्ति में आगे कहा गया है कि सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय को "कुछ ऐप्स के संचालन से संबंधित डेटा से सुरक्षा और गोपनीयता के लिए जोखिम के बारे में नागरिकों की चिंताओं को उठाते हुए कई अभ्यावेदन प्राप्त हुए हैं"।

राजस्थान विधानसभा स्पीकर ने पायलट और बागी विधायकों के खिलाफ SC में दायर याचिका वापस ली

facebook twitter