+

अनुराग ठाकुर का ममता पर कटाक्ष, कहा- नई सरकार के आने के बाद से जारी है हत्या व हिंसा का दौर

अनुराग ठाकुर ने मुख्यमंत्री ममता पर निशाना साधते हुए कहा कि जब से बंगाल में नई सरकार आई है, जब से ही लगातार हत्याएं और भारी हिंसा का दौर जारी है, जो किसी भी हाल में कष्टकारी है और इस स्थिति में जल्द से जल्द बदलाव आना चाहिए।
अनुराग ठाकुर का ममता पर कटाक्ष, कहा- नई सरकार के आने के बाद से जारी है हत्या व हिंसा का दौर
केंद्र की मोदी सरकार में केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने गुरूवार को पश्चिम बंगाल की ममता सरकार पर हमला बोलते हुए उन पर कड़ा जुबानी वार किया। ठाकुर ने मुख्यमंत्री ममता पर निशाना साधते हुए कहा कि जब से बंगाल में नई सरकार आई है, जब से ही लगातार हत्याएं और भारी हिंसा का दौर जारी है, जो किसी भी हाल में कष्टकारी है और इस स्थिति में जल्द से जल्द बदलाव आना चाहिए। 
ठाकुर ने एक बयान में कहा कि पश्चिमी बंगाल में जातीय हत्या और हिंसा का दौर हर हालत में रूकना चाहिए। जिस कार्य के लिए जनता ने सरकार को विकास के चुना है उसे वह करने चाहिए। बंगाल से लाखों लोग पलायन कर रहे है। उन्होंने आरोप लगाया कि पंजाब और राजस्थान सहित कांग्रेस शासित राज्यों में कोविडकाल में लूट मची है। 
पंजाब ने वेंटिलेटर कूड़दान में डाल दिए तो वहीं वैक्सीन निजी अस्पतालों को बेच दी। इसी प्रकार राजस्थान में वैक्सीन की बर्बादी की गई। पंजाब के मुख्यमंत्री से उनके विधायक तक नहीं मिल पाते हैं इसलिए वहां कांग्रेस पार्टी में अंतर्कलह मची हुई है। उन्होंने कहा कि केंद, सरकार कोरोना से लड़ई में लड़ रही है। गत वर्ष जब कोरोना आया था उस वक्त से स्वास्थ्य सेवाओं में वृद्धि हुई है।
भारत में वैक्सीन बन भी रही है और अपने देश के इलावा दूसरे देशों में भी लोगों की मद्द की गई है। आत्मनिर्भर भारत ने अपनी क्षमता बढ़ई है। वैंटिलेटर से लेकर पीपीई कीट, मास्क आदि देश में बन रहे हैं। आक्सीजन हर राज्यों को भेजी गई। पहले प्रदेश में 100 जांच होती थीं तो आज 20 लाख हो गई है। उन्होंने बताया कि दो दिन पहले ही राज्य में केंद्रीय विश्वविधालय के लिये जमीन मिली और इसके लिए पैसा भी मंजूर कर दिया गया है। जल्द ही यूनिवर्सिटी का कार्य शुरू होगा।
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि भारत लोकतंत्र का सबसे बड़ देश है और दूसरे देशों की तरह किसी भी कम्पनी या संस्था को यहां कार्य करने से नहीं रोका है। लेकिन कानून के दायरे में कार्य करना होगा। इस पर भी सोचना चाहिए। उनका सम्भवत: ईशारा टि्वटर की ओर था। 
उन्होंने कहा कि किसानों और बागवानों की आय दुगुनी करने का कार्य मोदी सरकार ने पहले ही शुरू कर दिया है। समर्थन मूल्य भी बढ़ए, प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना भी बढ़ई, अगर किसी को दिक्कत आ रही है उसको भी देखेगें। उन्होंने कहा कि पहले भी इम्पोर्ट ड्यूटी बढ़ई है और किसानों ने अफगानिस्तान से सेब का आयात करने की बात कही है उस पर भी सरकार विचार करेगी।
ठाकुर ने कहा कि हिमाचल को अपने आय के संसाधन बढ़ने चाहिए इससे देश और प्रदेश आत्मनिर्भर होगा। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का कम्पनियों पर प्रभाव पड़ है लेकिन केंद, की मोदी सरकार 90 लाख करोड़ का पैकेज लेकर आई। 80 करोड़ लोगों को गत कोरोनाकाल में भी राशन दिया गया और इस वर्ष उन्हें यह उपलब्ध कराया जाएगा।

facebook twitter instagram