सेना एवं भारत सरकार के फर्जी दस्तावेज बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश

राजस्थान में कोटा की एटीएस यूनिट ने सेना और भारत सरकार के फर्जी दस्तावेज बनाने वाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए दो लोगों को गिरफ्तार किया है। 

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (एटीएस एवं एसओजी) अनिल पालीवाल ने आज बताया कि पिछले कुछ समय से करौली जिले के हिण्डौन सिटी कस्बे एवं आस-पास के गांवों में संगठित गिरोह द्वारा भारतीय सेना एवं भारत सरकार के गोपनीय दस्तावेज फर्जी तरीके से तैयार करने के साथ ही फर्जी आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, विभिन्न विश्वविद्यालयों एवं बोर्ड की मार्कशीट एवं प्रमाण पत्रों में हेराफेरी करके फर्जी दस्तावेज तैयार करने की सूचना मिली थी। 

इस पर पुलिस एटीएस के कोटा इकाई के एक दल ने हिण्डौन एवं उसके आस-पास के गॉवों में करीब डेढ़ महीने तक गोपनीय रूप से गुप्त सूचनायें जुटाई। 

उन्होंने बताया कि सूचना की पुष्टि होने पर जिला पुलिस के सहयोग से आज हिण्डौन नई मण्डी के सामने स्थित चामुंडा कॉम्पलेक्स में शांतिनाथ कम्प्यूटर शॉप के संचालक शैलेश जैन (38) और सहीराम सिंह (34) को गिरफ्तार कर उनसे सेना की फर्जी डिस्चार्ज डायरियॉ, भारतीय सेना की सील मोहरें, सेना के आईडी कार्ड बरामद किये गये। इसके अतिरिक्त विभिन्न स्कूलों की रबर स्टॉम्प, मार्कशीटें बरामद की गईं। 

श्री पालीवाल ने बताया कि उन्होंने बताया कि इसके अलावा आरोपियों से लैपटॉप, मोबाईल फोन में विभिन्न बोर्ड और विश्वविद्यालयों के दस्तावेजों के रूप में फर्जी रूप से तैयार की गई छायाप्रतियां फोटोंकापियॉ पाई गई। 

इसके साथ ही आधार कार्ड, भामाशाह कार्ड, वाहनों की आर0सी की फोटोंकापियॉ भी पाई गई। इस संबंध में थाना हिण्डौन पर प्रकरण दर्ज करवाया गया। 

उन्होंने बताया कि आरोपियों से गिरोह के अन्य सदस्यों के संबंध में गहन पूछताछ की जा रही है।
Tags : भारतीय जनता पार्टी,Bharatiya Janata Party,गुजरात,Gujarat,उना कांड,विधायक प्रदीप परमार,Una Kand,MLA Pradeep Parmar ,gang,Army,Government of India,unit,Kota,ATS,government,Rajasthan,India