+

कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश को सेना ने किया नाकाम

श्रीनगर में सेना की चिनार कोर ने कहा, ''जम्मू-कश्मीर पुलिस की ओर से दी गई सूचना के आधार पर 14 सितंबर को नियंत्रण रेखा पर तैनात सतर्क जवानों ने हलचल होने पर संदिग्ध आतंकियों का पता लगाया और उनपर गोली चलाई
कश्मीर में नियंत्रण रेखा के पास आतंकियों की घुसपैठ की कोशिश को सेना ने किया नाकाम
एक तरफ चीन एलएसी पर घुसपैठ की कोशिश लगातार कर रहा है, तो दूसरी तरफ जम्मू-कश्मीर में आतंकियों द्वारा लगातार घुसपैठ की कोशिश की जा रही है। मंगलवार को सेना ने बताया कि आतंकियो ने जम्मू-कश्मीर में बांदीपुरा जिले के गुरेज सेक्टर में नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ की कोशिश की जिसे भारतीय सेना ने नाकाम कर दिया साथ ही सेना ने गोला-बारूद बरामद किया।

श्रीनगर में सेना की चिनार कोर ने एक ट्वीट में कहा, ''जम्मू-कश्मीर पुलिस की ओर से दी गई सूचना के आधार पर 14 सितंबर को नियंत्रण रेखा पर तैनात सतर्क जवानों ने हलचल होने पर संदिग्ध आतंकियों का पता लगाया और उनपर गोली चलाई। इस तरह समय रहते कार्रवाई कर सुरक्षाबलों ने घुसपैठ की कोशिश को नाकाम कर दिया।'' सेना ने कहा कि कार्रवाई स्थल से हथियार एवं गोला-बारूद बरामद किया गया।

उधर, जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में मंगलवार को नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी की गई और मोर्टार दागे गए, जिसमें सेना का एक जवान शहीद हो गया और एक अधिकारी सहित दो अन्य घायल हो गए।

अधिकारियों ने कहा कि सुंदरबनी सेक्टर में हुई पाकिस्तानी गोलीबारी का भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। प्रारंभिक जानकारी के आधार पर एक रक्षा प्रवक्ता ने कहा,'' पाकिस्तान ने बिना उकसावे के संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए छोटे हथियारों से गोलीबारी की और मोर्टार दागे। कुछ के घायल होने की सूचना है (हमारी तरफ से)।''

हालांकि, आधिकारिक सूत्रों ने बताया कि सेना के एक अधिकारी समेत तीन सैन्यकर्मी घायल हुए जिनमें से एक जवान की बाद में मौत हो गई। उन्होंने बताया कि अधिकारी और अन्य घायल जवान का सेना के अस्पताल में इलाज चल रहा है। सूत्रों ने बताया कि जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तानी सेना के जवान भी हताहत हुए हैं लेकिन अभी विस्तृत विवरण का इंतजार है।

facebook twitter