+

अरुणाचल में हेलीकॉप्टर हादसे में सेना के वैमानिकी विभाग के लेफ्टिनेंट कर्नल की मौत, सह पायलट घायल

अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले में बुधवार की सुबह सेना का एक चीता हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें सेना के वैमानिकी विभाग के एक लेफ्टिनेंट कर्नल की मौत हो गई जबकि सह पायलट गंभीर रूप से घायल हो गया। अधिकारियों ने इसकी जानककारी दी।
अरुणाचल में हेलीकॉप्टर हादसे में सेना के वैमानिकी विभाग के लेफ्टिनेंट कर्नल की मौत, सह पायलट घायल
अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले में बुधवार की सुबह सेना का एक चीता हेलीकॉप्टर दुर्घटनाग्रस्त हो गया जिसमें सेना के वैमानिकी विभाग के एक लेफ्टिनेंट कर्नल की मौत हो गई जबकि सह पायलट गंभीर रूप से घायल हो गया। अधिकारियों ने इसकी जानककारी दी।
इस दुर्घटना के बाद, एक बार फिर सबकी नजरें पुराने हो चुके चीता और चेतक हेलीकॉप्टरों के बेड़े पर हैं जिनमें आधुनिक उपकरणों की कमी है और जिन्हें बदलने की सख्त जरूरत है।
अधिकारियों ने बताया कि दुर्घटना में मारे गए पायलट की पहचान लेफ्टिनेंट कर्नल सौरभ यादव के रूप में हुई है। उन्होंने बताया कि घायल हुए सह पायलट मेजर हैं और उन्हें कमांड अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
उन्होंने बताया कि सेना मुख्यालय ने हादसे के कारणों का पता लगाने के लिए कोर्ट ऑफ इंक्वायरी का आदेश दिया है। उन्होंने बताया कि जांच का नेतृत्व दो स्टार वाले सैन्य अधिकारी करेंगे।
सेना के तेजपुर बेस के रक्षा प्रवक्ता ने बताया, ‘‘सेना की वैमानिकी शाखा का चीता हेलीकॉप्टर तवांग के पास सीमावर्ती इलाकों में सामान्य रूप से उड़ान भर रहा था। उसी दौरान सुबह करीब 10 बजे वह दुर्घटनाग्रस्त हो गया। दोनों पायलटों को तत्काल पास के सैन्य अस्पताल में ले जाया गया।’’
उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘बड़े दुख के साथ सूचित करना पड़ रहा है कि गंभीर रूप से घायल एक पायलट की इलाज के दौरान मौत हो गई। दूसरे पायलट का इलाज चल रहा है।’’
प्रवक्ता ने कहा कि दुर्घटना का कारण अभी तक ज्ञात नहीं है।
सेना ने ट्वीट किया है, ‘‘जनरल मेजर पांडेय सीओएएस और सभी रैंक लेफ्टिनेंट कर्नल सौरभ यादव के सर्वोच्च बलिदान को सलाम करते हैं, जो तवांग सेक्टर में ड्यूटी के दौरान शहीद हुए। हम उनके परिवार के प्रति संवेदनाएं व्यक्त करते हैं।’’
गौरतलब है कि मार्च में रक्षा राज्य मंत्री अजय भट ने राज्यसभा में कहा था कि सेना की तीनों सेवाओं में पिछले पांच वर्षों में विमानों और हेलीकॉप्टरों से जुड़ी दुर्घटनाओं में 42 रक्षाकर्मियों की मौत हुई है।
facebook twitter instagram