+

मतदाता सूची में संशोधन के बाद जम्मू कश्मीर में हो सकते हैं विधानसभा चुनाव

लोकतंत्र को भारत की आत्मा बताते हुए जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि मतदाता सूची में संशोधन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद केंद्र शासित प्रदेश में निश्चित रूप से चुनाव होंगे और राज्य का दर्जा ‘‘उचित समय’’ पर बहाल होगा।
मतदाता सूची में संशोधन के बाद जम्मू कश्मीर में हो सकते हैं विधानसभा चुनाव
लोकतंत्र को भारत की आत्मा बताते हुए जम्मू कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने कहा कि मतदाता सूची में संशोधन की प्रक्रिया पूरी होने के बाद केंद्र शासित प्रदेश में निश्चित रूप से चुनाव होंगे और राज्य का दर्जा ‘‘उचित समय’’ पर बहाल होगा। सिन्हा ने यह टिप्पणी शनिवार देर रात यहां एक कार्यक्रम में की, जब कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कर्ण सिंह ने विधानसभा चुनाव कराने और जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल करने की मांग दोहराई।
संशोधन के बाद निश्चित तौर पर चुनाव कराए जाएंगे
पूर्ववर्ती राज्य में योगदान के लिए सिंह को सम्मानित करने के मकसद से यह कार्यक्रम आयोजित किया गया था। सिन्हा ने कहा, ‘‘लोकतंत्र भारत की आत्मा है। लोकतंत्र और भारत एक दूसरे के पर्याय हैं। प्रधानमंत्री और देश के गृह मंत्री ने संसद में कई बार कहा है कि चुनाव (जम्मू कश्मीर में) होंगे।’’ उपराज्यपाल ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में परिसीमन की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है और मतदाता सूची में संशोधन शुरू हो गया है। उन्होंने कहा, इसके बाद निश्चित तौर पर चुनाव होंगे।
आप एक सांसद हैं संसद में दिए आश्वासन के महत्व को समझेंगे - राज्यपाल 
जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा बहाल करने की मांग का जिक्र करते हुए सिन्हा ने कहा, ‘‘कई बार यह भी कहा गया है कि (पहले) परिसीमन, फिर चुनाव, फिर उचित समय पर राज्य का दर्जा बहाल होगा। मुझे नहीं लगता कि इसमें शक की कोई गुंजाइश है।’’ केंद्र ने पांच अगस्त, 2019 को जम्मू कश्मीर के विशेष दर्जे को रद्द कर दिया था। उपराज्यपाल ने कहा कि सिंह एक सांसद हैं और संसद में सरकार के आश्वासन के महत्व को समझेंगे। सिन्हा ने कहा, ‘‘आप सांसद रहे हैं और संसद में दिए गए आश्वासन के महत्व को आप मुझसे बेहतर समझते हैं। संसद में सरकार का आश्वासन पूर्व से उगते सूरज की तरह सच है।’’ इससे पहले, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने उम्मीद जताई कि जम्मू कश्मीर को केंद्र शासित प्रदेश बनाना एक अस्थायी कदम है, जैसा कि भाजपा ने अनुच्छेद 370 को अस्थायी कदम के रूप से पेश किया था।
अगर राजनीतिक प्रक्रिया जम जाती हैं तो समाज भी जम जाता हैं 
विधानसभा चुनाव पर सिंह ने कहा, ‘‘राजनीतिक प्रक्रिया जारी रहनी चाहिए। जब भी राजनीतिक प्रक्रिया जम जाती है, समाज भी जम जाता है। इसलिए, हमें उम्मीद है कि राजनीतिक प्रक्रिया जल्द ही शुरू होगी और हम एक नया चरण शुरू करेंगे।’’ सार्वजनिक जीवन में सिंह के योगदान की सराहना करते हुए, उपराज्यपाल ने उन्हें विचारों और आदर्शों वाला एक महान व्यक्ति बताया।
जम्मू -कश्मीर में भयमुक्त व पारदर्शी व्यवस्था स्थापित की गई 
सिन्हा ने युवा पीढ़ी, विशेष रूप से समाज सेवा और साहित्यिक क्षेत्र में शामिल लोगों से सिंह के जीवन से प्रेरणा लेने का आह्वान किया। उपराज्यपाल ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में जम्मू कश्मीर में एक भयमुक्त, भ्रष्टाचार मुक्त और पारदर्शी व्यवस्था स्थापित की गई है।
 
facebook twitter instagram