हड्डियों की मजबूती से लेकर डिप्रेशन कम करने तक बहुत लाभकारी हैं तिल के ये फायदे

नवंबर के आते ही मौसम में ठंडक का एहसास शुरु हो जाता है। सर्दियां आते ही कई लोगों को खांसी और जुकाम जैसी बीमारियां शुरु हो जाती हैं। ऐसे में लोग गरम और सर्दियों से बचने के लिए कई सारे तरीके और नुस्खे अपनाते हैं। सर्दियाें से बचने के लिए तिलर भी बहुत लाभदायक होता है। 


दरअसल तिल गरम होता है और इसका सेवन सर्दियों में करने से शरीर में गरमाहट आती है। अक्सर लोग मीठी चीजों में तिल डालते हैं। तिल का इस्‍तेमाल हर घर में किया जाता है। मोनो-सैचुरेटेड फैटी एसिड तिल में पाया जाता है। यह कोलेस्ट्राेल की मात्रा शरीर में कम रखता है। साथ ही तिल खाना दिल से जुड़ी बीमारियों में भी लाभदायक होता है। 


सेसमीन नाम का एन्टीऑक्टिसडेंट तिल में पाया जाता है। जो शरीर में कैंसर कोशिकाओं को रोकता है। तिल के इस गुण की वजह से लंग कैंसर, पेट का कैंसर, ल्यूकेमिया, प्रोस्टेट कैंसर, ब्रेस्ट कैंसर ये बीमारियां नहीं होती है। चलिए जानते हैं तिल के अनगिनत फायदों के बारे में-

कम करता है डिप्रेशन 


तनाव और डिप्रेशन को तिल कम करता है। तत्व और विटामिन में तिल में पाया जाता है जो तनाव और डिप्रेशन को शरीर में दूर करता है। मानसिक समस्याओं से भी तिल निजात दिलाता है। रोजाना तिल का सेवन थोड़ी मात्रा में करना चाहिए। इससे मानसिक परेशानियां दूर होती हैं। 

वरदान है बालों के लिए


बालों के लिए तिल किसी वरदान से कम नहीं है। बालों का असमय पकना और झड़ना तिल के तेल का प्रयोग करने या रोजाना थोड़ी मात्रा में तिल खाने से रूक जाता है। 

फायदेमंद होता है स्किन के लिए


त्वचा के लिए तिल का तेल बहुत ही लाभदायक होता है। चेहरे पर निखार के लिए भी तिल बहुत फायदेमंद होता है। त्वचा को जो जरूरी पोषण चाहिए होता है वह तिल से मिल जाता है। त्वचा को तिल नमी भी देता है। दूध में तिल को भिगोकर उसका पेस्ट बनाकर चेहरे पर लगाने से प्राकृतिक चमक और रंग निखर जाता है। 

मजबूती देता है हड्डियों को 


डाइट्री प्रोटीन और एमिनो एसिड तिल में पाया जाता है।  ये बच्चों की हड्डियों के विकास के लिए बहुत अच्छा होता है। साथ ही मांस-पेशियों के लिए भी तिल बहुत लाभदायक होता है। तिल के तेल की मालिश करने से शरीर के किसी अंग का दर्द ठीक रहता है। 

राहत देता है खांसी में


सर्दियां आते ही कई लोगों को सूखी खांसी की समस्या हो जाती है। इसके लिए तिल का सेवन करना लाभदायक होता है। मिश्री और पानी के साथ तिल का सेवन करने से सूखी खांसी में आराम मिलता है। अगर कान में आपको दर्द है तो इसके लिए लहसुन के साथ तिल के तेल को गुनगुना गर्म करके कान में डालने से राहत मिलती है। 
Tags : Chhattisgarh,Punjab Kesari,जगदलपुर,Jagdalpur,Sanctuaries,Indravati National Park