+

BHU के छात्रों को आक्रामक प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी के अस्पताल मिली मुफ्त इलाज की अनुमति

बीएचयू के कुलपति ने एक बयान भी जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण और दर्दनाक है कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया।
BHU के छात्रों को आक्रामक प्रदर्शन के बाद यूनिवर्सिटी के अस्पताल मिली मुफ्त इलाज की अनुमति
भारत रत्न महामना मदन मोहन मालवीय पर विवादित टिप्पणी को लेकर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (बीएचयू) में हुए आक्रामक प्रदर्शन के बाद बीएचयू के कुलपति प्रो.राकेश भटनागर ने छात्रों का यूनिवर्सिटी के अस्पताल में मुफ्त ओपीडी पंजीकरण की अनुमति दे दी है।
कुलपति ने एक बयान भी जारी किया, जिसमें उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण और दर्दनाक है कि उनके बयान को गलत तरीके से पेश किया गया। कुलपति और एक छात्र के बीच फोन पर बातचीत की एक ऑडियो क्लिप वायरल होने के बाद, कुलपति के बयान को लेकर कैम्पस में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन शुरू हो गया था। 
समाजवादी छात्र सभा (एससीएस), अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) और नेशनल स्टूडेंट्स यूनियन ऑफ इंडिया (एनएसयूआई) से जुड़े छात्रों ने कुलपति के इस्तीफे की मांग को लेकर परिसर में विभिन्न स्थानों पर प्रदर्शन किया। ऑडियो क्लिप में, भटनागर को यह कहते हुए सुना गया कि "महामना मदन मोहन मालवीय ने कैम्पस में आम के कई पेड़ लगाए हैं। अगर उन्होंने पैसे के कुछ पेड़ लगाए होते, तो हम मुफ्त में सब कुछ दे देते।"  
कुलपति ने कहा था कि फंड की कमी के कारण छात्रों को मुफ्त इलाज देना संभव नहीं है। उन्होंने आगे कहा कि यूनिवर्सिटी का सलाना बिजली बिल 66 करोड़ रुपये आता है, जबकि यूजीसी हमें फंड के रूप में केवल 60 करोड़ देता है। इस बयान पर छात्रों के विरोध के बाद बीएचयू वीसी बैकफुट पर आए और प्रेस रिलीज जारी कर इस मामले में सफाई दी।
facebook twitter