+

मुझे नहीं, सुशांत मामले की जांच को किया गया था क्वारंटाइन : IPS विनय तिवारी

बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने सुशांत मामले की जांच करने पहुंचे आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को मुंबई में जबरन क्वारंटाइन किया था।
मुझे नहीं, सुशांत मामले की जांच को किया गया था क्वारंटाइन : IPS विनय तिवारी
बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच करने मुंबई पहुंचे बिहार के आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को क्वारंटाइन से रिहा कर दिया गया है। वे शुक्रवार को मुंबई से पटना के लिए रवाना हो गए। मुंबई से निकलते हुए आईपीएस अधिकारी ने कहा कि 'मैं कहूंगा कि मुझे नहीं बल्कि जांच को ही क्वारंटाइन कर दिया गया था। बिहार पुलिस की जांच को रोका गया।'
बृहन्मुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) ने सुशांत मामले की जांच करने पहुंचे आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को मुंबई में जबरन क्वारंटाइन किया था। इसकी जानकारी बिहार के पुलिस महानिदेशक (DGP) गुप्तेश्वर पांडेय ने खुद दी है। जिसके बाद काफी हंगामा मच गया था।
DGP पांडेय ने आईपीएस अधिकारी को क्वारंटाइन करने को लेकर अपनी नाराजगी जाहिर कर चुके हैं। उन्होंने तो इस क्वारंटाइन को 'हाउस अरेस्ट' तक बताया है। अब इस मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो के हाथ में चली गई है। उल्लेखनीय है कि सुशांत का शव 14 जून को मुंबई स्थित उनके फ्लैट से बरामद किया गया था। 
इसके बाद मुंबई पुलिस ने इस मामले की जांच शुरू कर दी। इस बीच 25 जुलाई को सुशांत के पिता के के सिंह ने पटना के राजीवनगर थाने में एक मामला दर्ज करवाया, जिसमें सुशांत की दोस्त रिया चक्रवर्ती सहित छह को आरोपी बनाया गया। इस मामले की जांच के लिए पटना पुलिस की चार सदस्यीय टीम मुंबई भेजी गई। 
इसके बाद आईपीएस अधिकारी विनय तिवारी को भी भेजा गया। चार सदस्यीय टीम गुरुवार को पटना वापस आ गई थी लेकिन आईपीएस अधिकारी मुंबई में क्वारंटाइन थे। 


facebook twitter