+

BJP का नेतृत्व परिवर्तन से इनकार, कांग्रेस ने बसवराज बोम्मई को बताया ‘ कठपुतली सीएम ’

कर्नाटक में कुछ धड़ों द्वारा कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री को बदलने सहित पार्टी की राज्य इकाई में आमूल-चूल परिवर्तन कर सकती है। हालांकि, पार्टी के नेताओं ने ऐसी किसी भी संभावना से इनकार किया है।
BJP का नेतृत्व परिवर्तन से इनकार, कांग्रेस ने बसवराज बोम्मई को बताया ‘ कठपुतली सीएम ’
कर्नाटक में कुछ धड़ों द्वारा कयास लगाए जा रहे हैं कि भाजपा मुख्यमंत्री को बदलने सहित पार्टी की राज्य इकाई में आमूल-चूल परिवर्तन कर सकती है। हालांकि, पार्टी के नेताओं ने ऐसी किसी भी संभावना से इनकार किया है।
वहीं, विपक्षी कांग्रेस ने मंगलवार को मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई पर निशाना साधते हुए उन्हें ‘‘ कठपुतली मुख्यमंत्री करार दिया।
हाल के दिनों में भाजपा की राज्य इकाई में आमूल-चूल बदलाव के कयास लगाए जा रहे हैं और इन्हें केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के कर्नाटक दौरे के बाद विशेष रूप से बल मिला।
राज्य की मुख्य विपक्षी पार्टी कांग्रेस ने दावा किया कि उसके नेता सिद्धरमैया के 75वें जन्मदिन के आयोजन को मिले समर्थन से सत्तारूढ़ भाजपा बचाव की मुद्रा में आ गई है।
कांग्रेस ने दावा किया कि चुनाव में जाने के लिए ‘कोई चेहरा नहीं’ होने की वजह से भाजपा सत्ता की कुर्सी पर ‘‘ कठपुतली मुख्यमंत्री’’ को स्थापित करने की कोशिश कर रही है।
कर्नाटक कांग्रेस ने ट्वीट किया ‘‘ राज्य की जनता परेशान है लेकिन भाजपा के लिए यह सत्ता का खेल है। बाढ़ का सामना कर रहे लोगों को राहत पहुंचाने के बजाय भाजपा कर्नाटक में तीसरे मुख्यमंत्री को स्थापित करने पर विचार कर रही है। जब भी राज्य परेशानी में होता है, तो भाजपा सत्ता का खेल शुरू कर देती है।’’
कांग्रेस ने कहा, ऐसा लगता है कि बोम्मई ‘‘कुर्सी छोड़ने के लिए घंटे गिन रहे हैं।’’ पार्टी ने सवाल किया कि मुख्यमंत्री को बदलने को लेकर चल रहे कयास के पीछे क्या प्रशासनिक विफलता, भाजपा के भीतर की लड़ाई या (पूर्व मुख्यमंत्री) बीएस येदियुरप्पा की नाराजगी वजह है?
कांग्रेस ने सवाल किया, ‘‘तमाम कोशिशों के बावजूद ‘केशव कृपा’ (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का यहां स्थित राज्य मुख्यालय) ने कभी बोम्मई को संघ परिवारी नहीं समझा जो जनता परिवार के हैं... ‘‘ क्या कठपुतली मुख्यमंत्री’ बोम्मई को बदलने की यह कोशिश तीन मुख्यमंत्री की आपकी परंपरा के अनुपालन के लिए है।’’
कांग्रेस की यह प्रतिक्रिया भाजपा के पूर्व विधायक बी सुरेश गौड़ा द्वारा पार्टी में कुछ बदलाव किए जाने के संकेत दिए जाने के एक दिन बाद आई है। उन्होंने कहा था कि पार्टी नेतृत्व मुख्यमंत्री को बदलने की मांग और पार्टी के हित के अन्य मुद्दों और भविष्य में चुनाव जीतने पर विचार करेगा।
गौरतलब है कि येदियुरप्पा के इस्तीफे के बाद मुख्यमंत्री बने बोम्मई ने 28 जुलाई को इस पद पर एक साल पूरा किया था।
कांग्रेस ने ‘तीन मुख्यमंत्री ’ का उल्लेख भाजपा की 2008-2013 के बीच चली सरकार के संदर्भ में किया। उस समय भाजपा ने अलग-अलग समय पर येदियुरप्पा, डी.वी.सदानंद गौड़ा और जगदीश शेट्टार को मुख्यमंत्री बनाया था।
इस बीच, कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री के सुधाकर ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी मुख्यमंत्री बदलने का सपना देख रही है। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार बोम्मई के नेतृत्व में स्थिर है।
सुधाकर ने कांग्रेस नेताओं सिद्धरमैया और डी.के.शिवकुमार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि दो नेता, मुख्यमंत्री बनने का सपना लिए गांधी (सोनिया गांधी) परिवार के ‘‘दरवाजे पर पहरा’’दे रहे हैं।
facebook twitter instagram