नोटबंदी के दौरान अर्जित रूपयों से विधायकों को खरीद रही है भाजपा : दिग्विजय

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने शुक्रवार को दावा किया कि नोटबंदी के दौरान भाजपा ने अकूत धन अर्जित किया और अब उसी का इस्तेमाल कर पार्टी ‘‘विधायकों’’ को खरीद रही है । कर्नाटक में विधायकों के इस्तीफे से उपजे राजनीतिक संकट और गोवा के दस कांग्रेस विधायकों के भाजपा में शामिल होने की घटना के बाद वरिष्ठ कांग्रेस नेता का यह बयान आया है। 

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘भाजपा ने नोटबंदी के दौरान अकूत पैसा अर्जित किया और अब वह (विधायकों की) खरीद में शामिल है। स्थिति यह है कि विधायकों को ऐसे खरीदा जा रहा है जैसे बाजार से सामान खरीदा जाता है। मैं इसकी कड़ी निंदा करता हूं ।’’ हालांकि, उन्होंने कहा कि मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार पूरी तरह सुरक्षित है । उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ के पास 121 विधायकों का समर्थन है । 

सिंह ने केंद्र की आर्थिक नीतियों की आलोचना की और उन्होंने आरोप लगाया कि 2024 तक भारत को पांच खरब डालर वाली अर्थव्यवस्था बनाने का लक्ष्य एक ‘‘सपना’’ है जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दिखा रहे हैं। कांग्रेस नेता ने कहा,‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में हमें सपना दिखाया था कि दो करोड़ लोगों को रोजगार देंगे, विदेशों से काला धन वापस लाएंगे और लोगों के खातों में 15 लाख रूपये जमा करायेंगे । लेकिन सभी वादे ‘जुमला’ साबित हुए । अब उन्होंने भारत को 2024 तक पांच खबर डालर की अर्थव्यवस्था बनाने का एक नया सपना दिखाया है ।



उन्होंने कहा, ‘‘इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए दो अंकों की निरंतर विकास दर चाहिए दुर्भाग्य से ऐसी कोई संभावना दिख नहीं रही है ।’’ सिंह ने दावा किया कि इसके उलट औद्योगिक एवं निर्माण क्षेत्र लगातार पिछड़ रहे हैं । कांग्रेस नेता ने कहा, ‘‘ऐसी स्थिति में पांच खरब डालर की अर्थव्यवस्था बनाना संभव नहीं है ।’’ जम्मू कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल के काफिले पर हुए हमले के बारे में सिंह ने कहा कि इस संबंध में आठ फरवरी को खुफिया जानकारी मिली थी, लेकिन इसके बावजूद कोई एहतियात नहीं बरता गया । 

उन्होंने आरोप लगाया, ‘‘श्रीलंका में हालिया बम धमाकों के बाद (वहां के) आंतरिक खुफिया मामलों के मंत्री ने इस्तीफा दे दिया । 26/11 हमले के बाद (महाराष्ट्र के तत्कालीन) मुख्यमंत्री ने त्यागपत्र दे दिया । लेकिन पुलवामा हमले के बाद जिम्मेदारी तय नहीं की गयी ।’’ राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष पद से हटने के फैसले के बारे में पूछे जाने पर सिंह ने आम चुनावों में हार की जिम्मेदारी लेने के लिए उनकी तारीफ की । उन्होंने कहा, ‘‘1968 के बाद एक अथवा दो मौकों पर कांग्रेस टूटी थी, लेकिन देश की जनता और पार्टी कार्यकर्ताओं ने अपना भरोसा नेहरू गांधी परिवार की अगुवाई वाली कांग्रेस में जताया ।’’ 

दिग्विजय ने कहा, ‘‘हम सब चाहते हैं कि वह (राहुल) पद पर बने रहें । हालांकि, उन्होंने फैसला किया है कि कांग्रेस का अगला अध्यक्ष गांधी परिवार से नहीं होगा । अगर वह सोचते हैं कि गांधी परिवार से इतर किसी व्यक्ति को पार्टी का अध्यक्ष बनाया जाना चाहिए तो कार्यकारी समिति जितना जल्दी हो सके इस पर निर्णय करेगी ।’’ वरिष्ठ कांग्रेस नेता और कर्नाटक के मंत्री डी के शिवकुमार को शहर के एक होटल में रह रहे बागी विधायकों से मिलने की अनुमति नहीं देने के लिए सिंह ने मुंबई पुलिस की कार्रवाई की आलोचना की । 

उन्होंने कहा, ‘‘शिवकुमार अपने मित्रों से मिलने मुंबई आये थे, जो उनका फोन नहीं उठा रहे थे । मुंबई पुलिस ने उन्हें उनके अधिकार से वंचित कर दिया ।’’ एल्गर परिषद मामले में कार्यकर्ताओं से बरामद पत्रों में से एक में सिंह का फोन नंबर मिलने के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरा नंबर वेबसाइट पर है अगर पुलिस को लगता है कि मैं आतंकवादी कृत्यों में शामिल हूं, तो उन्हें मुझे गिरफ्तार करना चाहिए ।’’ 

महाराष्ट्र में इस साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के प्रचार शुरू करने के बारे में पूछने पर सिंह ने कहा,‘‘मुझे विश्वास है कि हमने भी शुरू कर दिया है ।’’ दिग्विजय पंढरपुर स्थित विठ्ठल मंदिर में आये थे और वापसी में वह संवाददाताओं से बातचीत कर रहे थे । सिंह पिछले 27 साल से इस मंदिर में आ रहे हैं । 

Download our app