+

केंद्र ने राज्यों से अस्पतालों को कोविड-19 के टीके का पर्याप्त आवंटन सुनिश्चित करने को कहा

केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से सभी अस्पतालों को कोविड-19 टीकाकरण सत्र की योजना के अनुरूप पूरी अवधि के लिए टीकों का आवंटन सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है।
केंद्र ने राज्यों से अस्पतालों को कोविड-19 के टीके का पर्याप्त आवंटन सुनिश्चित करने को कहा
केंद्र सरकार ने राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों से सभी अस्पतालों को कोविड-19 टीकाकरण सत्र की योजना के अनुरूप पूरी अवधि के लिए टीकों का आवंटन सुनिश्चित करने का अनुरोध किया है। इन अस्पतालों में सरकारी और निजी, दोनों शामिल हैं। इस बीच, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने मंगलवार को कहा कि भारत में कोविड-19 संक्रमण की पुष्टि की दर दो प्रतिशत से भी कम है, जिससे पता चलता है कि महामारी नियंत्रित किये जाने के करीब है। 
केंद्र ने आज एक बैठक में दोहराया कि टीकों की कोई कमी नहीं है और इसलिए पर्याप्त मात्रा में टीके की खुराक कोविड टीकाकरण केंद्रों को आवंटित किया जाना चाहिए। गौरतलब है कि एक मार्च से टीकाकरण का दूसरा चरण शुरू किया गया है, जिसके तहत अब 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों और गंभीर बीमारियों से ग्रस्त 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को टीका लगाया जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेश टीकों को भंडारित, रिजर्व, संरक्षित नहीं रखना चाहिए, ना ही बफर भंडार बनाना चाहिए। 
बयान में कहा गया है, ‘‘केंद्र सरकार के पास टीकों का पर्याप्त भंडार है और राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों को जरूरी खुराक उपलब्ध कराई जाएगी।’’ राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों से नियमित रूप से निजी अस्पतालों के साथ संवाद करने को कहा गया है ताकि टीकाकरण की उनकी अधिकतम क्षमता का उपयोग किया जा सके। वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण ने साप्ताहिक संवाददाता सम्मेलन में कहा कि हालांकि महाराष्ट्र, केरल, तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात और मध्य प्रदेश सहित कुछ अन्य राज्यों में कोविड-19 के नये या उपचाराधीन मरीजों में वृद्धि देखी जारी है।
लेकिन यह भी एक तथ्य है कि संक्रमण से उबरने की दर 97 प्रतिशत से अधिक है और भारत में कुल उपचाराधीन मरीज दो प्रतशित से भी कम (1.51 प्रतिशत) हैं। भूषण ने कहा कि महाराष्ट्र, तमिलनाडु, पंजाब, गुजरात और मध्य प्रदेश में केंद्रीय टीमें तैनात की गई हैं। हम हरियाणा की भी निगरानी कर रहे हैं। ’’ उन्होंने कहा कि दो राज्यों, महाराष्ट्र और केरल में देश के कुल उपचाराधीन रोगियों के 75 प्रतिशत (उपचाराधीन) मरीज हैं। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) वी.के. पॉल ने लोगों से टीका लगवाने और संक्रमण की चेन तोड़ने की अपील की है। उन्होंने कहा कि एक बड़ी आबादी अब भी इस रोग से खतरे का सामना कर रही है और उन्होंने किसी लापरवाही के प्रति आगाह किया। 
facebook twitter instagram