+

श्रद्धालुओं को गंगोत्री जाने से रोकने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा चारधाम बोर्ड

चारधाम देवस्थानम बोर्ड ने बुधवार को उत्तराखंड के बाहर से तीर्थयात्रियों को गंगोत्री धाम जाने से रोकने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है।
श्रद्धालुओं को गंगोत्री जाने से रोकने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा चारधाम बोर्ड
देहरादून : चारधाम देवस्थानम बोर्ड ने बुधवार को उत्तराखंड के बाहर से तीर्थयात्रियों को गंगोत्री धाम जाने से रोकने वालों के खिलाफ कड़ी कानूनी कार्रवाई करने की चेतावनी दी है। गंगोत्री धाम के पुजारियों और तीर्थ-पुरोहितों की संस्था पंच मंदिर समिति ने कल मंगलवार को देश के कोविड-19 के बढ़ते मामलों के मद्देनजर सार्वजनिक सुरक्षा को देखते हुए 15 अगस्त तक राज्य के बाहर के तीर्थयात्रियों को मंदिर में जाने की अनुमति नहीं देने का सर्वसम्मति से फैसला किया था । 
बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रविनाथ रमन ने कहा, ‘‘यह फैसला गैरकानूनी है । यह कारावास और इस निर्णय को लेने वाले लोगों के खिलाफ जुर्माना सहित कठोर दंडात्मक कार्रवाई का मामला है । पंच मंदिर समिति को इस तरह का फैसला लेने का कोई अधिकार नहीं है।’’ उन्होंने बताया कि उत्तरकाशी के जिलाधिकारी द्वारा गंगोत्री धाम के तीर्थ—पुरोहितों से अपना फैसला वापस लेने या कार्रवाई का सामना करने के लिए कहा गया है । 
पुजारियों के निर्णय को अवहेलना बताते हुए रमन ने कहा कि बोर्ड के अधिकार क्षेत्र में आने वाला कोई भी मंदिर बोर्ड के आदेशों के खिलाफ नहीं जा सकता । उन्होंने कहा, ‘‘अगर गंगोत्री या कहीं और तीर्थयात्रियों के साथ कोई दुर्व्यवहार किया जाता है तो हम सख्त कार्रवाई करेंगे।’’ देवस्थानम बोर्ड उत्तराखंड में चारधाम समेत 51 मंदिरों के मामलों का प्रबंधन देखता है जिसमें गंगोत्री भी शामिल है। 
देवस्थानम बोर्ड ने कोविड—19 महामारी के कारण बुरी तरह प्रभावित हुई चारधाम यात्रा को बढ़ावा देने के लिए यात्रा को राज्य से बाहर के तीर्थयात्रियों के लिए भी 24 जुलाई को शुरू किया था । 
हालांकि, मंदिर के पुजारियों ने मंगलवार को कोविड-19 के मद्देनजर गंगोत्री मंदिर को उत्तराखंड के बाहर से तीर्थयात्रियों के लिए बंद रखने का फैसला किया और अपने निर्णय के बारे में जिला प्रशासन को एक पत्र के माध्यम से सूचित कर दिया था । 

facebook twitter