+

छत्तीसगढ़ : बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने की तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई

छत्तीसगढ़ के दुर्ग में बच्चा चोर होने के शक में तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। एक अफवाह के चलते भीड़ ने तीनों साधुओं की जमकर पिटाई कर दी।
छत्तीसगढ़ : बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने की तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई
छत्तीसगढ़ के दुर्ग में बच्चा चोर होने के शक में तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई का मामला सामने आया है। एक अफवाह के चलते भीड़ ने तीनों साधुओं की जमकर पिटाई कर दी। इस दौरान खून से लथपथ पीड़ित साधु भीड़ से बचने की गुहार लगाते रहे। घटना का वीडियो जब वायरल हुआ तो पुलिस हरकत में आई। 
जानकारी के मुताबिक, भिलाई-3 थाना क्षेत्र के चरोदा गांव में बच्चा चोरी की अफवाह उड़ी थी। इस दौरान ग्रामीणों ने तीन साधुओं को पकड़ लिया और उनकी जमकर पिटाई शुरू कर दी। भीड़ के हमले में साधु बुरी तरह लहूलुहान हो गए।  इस दौरान साधु लोगों से छोड़ देने की अपील करते रहे, लेकिन भीड़ ने उनकी एक न सुनी। 
पुलिस को घटना की जानकारी मिली तब डॉयल-112 की पुलिस टीम मौके पर पहुंची। और साधुओं की भीड़ के चंगुल से बचाया। हालांकि तब तक साधुओं को जमकत पीटा जा चुका था। घटना पर दुर्ग SP अभिषेक पल्लव ने कहा कि यह साधु संदिग्ध ढंग से बच्चों से बात कर रहे थे जिससे अफवाह फैली कि यह बच्चा चोरी करने आए हैं। इनके (साधुओं के) अनुसार यह राजस्थान के रहने वाले हैं लेकिन इनके पास से कोई पहचान पत्र नहीं मिला है। हम लोगों से अपील करेंगे कि क़ानून अपने हाथ में न लें।
बच्चा चोर के शक में महाराष्ट्र में 4 साधुओं की पिटाई
महाराष्ट्र के सांगली जिले से भी 14 सितम्बर को इसी तरह का मामला सामने आया था। चार साधुओं पर बच्चा चोर होने के संदेह में भीड़ नेकथित रूप से हमला कर दिया, जिसके एक दिन बाद  पुलिस ने मामले पर कार्रवाई करते हुए 18 से 20 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया। 
जानकारी के मुताबिक, चारों साधु एक वाहन से सोलापुर जिले के पंढरपुर जा रहे थे, तभी वह रास्ता भटक गए।  रास्ता भटकने के बाद, वे लवंगा गांव के पास एक बिजलीघर स्टेशन के निकट एक लड़के के पास पहुंचे। वह लड़का कन्नड़ के अलावा और कोई भाषा नहीं जानता था। वह उनका चेहरा देखकर डर गया और ‘चोर-चोर’ चिल्लाने लगा। 
इससे कुछ स्थानीय लोगों को संदेह हुआ कि वे बच्चों का अपहरण करने वाले आपराधिक गिरोह का हिस्सा हैं। इसके बाद लोगों ने साधुओं को पकड़ लिया और उनकी पिटाई कर दी। जब पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंची तो पाया कि साधु उत्तर प्रदेश के एक अखाड़े के सदस्य हैं और गलतफहमी की वजह से यह घटना हुई। 
facebook twitter instagram