+

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की तानाशाही, आलोचकों का करवा रहे है मुंह बंद

चीन के शीर्ष विश्वविद्यालय ने राष्ट्रपति शी चिनफिंग के लिए दो कार्यकाल की सीमा को निरस्त कर उनके असीम कार्यकाल का मार्ग प्रशस्त करने वाले संविधान संशोधन सहित सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) के कटु आलोचक रहे कानून के एक प्रोफेसर को बर्खास्त कर दिया है।
चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग की तानाशाही, आलोचकों का करवा रहे है मुंह बंद
 चीन के शीर्ष विश्वविद्यालय ने राष्ट्रपति शी चिनफिंग के लिए दो कार्यकाल की सीमा को निरस्त कर उनके असीम कार्यकाल का मार्ग प्रशस्त करने वाले संविधान संशोधन सहित सत्तारूढ़ चीनी कम्युनिस्ट पार्टी (सीपीसी) के कटु आलोचक रहे कानून के एक प्रोफेसर को बर्खास्त कर दिया है। 
हांगकांग से प्रकाशित होने वाले साउथ चाइना मॉर्निंग पोस्ट की रविवार की खबर के मुताबिक तिंगुआ विश्वविद्यालय में कानून के प्रोफेसर शु झांगरून को पद से हटाने की शनिवार को औपचारिक अधिसूचना जारी की गई। इस विश्वविद्यालय में वह 20 साल से सेवारत थे। विश्वविद्यालय ने कहा कि 10 जुलाई को हुई बैठक में यह फैसला लिया गया। 
उल्लेखनीय है कि फरवरी और मई में प्रोफेसर शु ने दो लंबे आलेख प्रकाशित किए थे, जिनमें कोरोना वायरस संकट से सही तरीके से नहीं निपटने को लेकर सीपीसी नेतृत्व की कटु आलोचना की गई थी। 
पोस्ट की खबर के मुताबिक व्यंग्य और आधुनिक एवं शास्त्रीय चीनी भाषा का उपयोग करते हुए शु ने लिखा था कि किस तरह से देश अलग-थलग पड़ गया है। वह चीन में अकादमिक क्षेत्र के उन कुछ गिने-चुने विद्वानों में एक हैं जिन्होंने चीन में और विदेशों में कई सारे ऑनलाइन आलेखों के जरिए सीपीसी नेतृत्व की आलोचना की है। 
विश्वविद्यालय की अधिसूचना में कहा गया है, ‘‘हम यह सत्यापित करते हैं कि प्रोफेसर शु ने जुलाई 2018 से कई आलेख प्रकाशित किए हैं और यह नए युग में संस्थानों में अध्यापकों के लिए पेशेवर आचरण के 10 मानदंडों का गंभीर उल्लंघन है। ’’ 
ये दिशा-निर्देश शिक्षा मंत्रालय ने 2018 में जारी किए थे जिनमें कहा गया है कि यदि अध्यापक सीपीसी के प्राधिकार को कमतर करने के लिए कुछ करते हैं या पार्टी के निर्देशों या नीतियों का उल्लंघन करते हैं, तो उन्हें बर्खास्त या दंडित किया जा सकता है। 
इस महीने की शुरूआत में प्रोफेसर शु को चेंगदु पुलिस उनके घर से उठा ले गई थी। बाद में उनकी पत्नी को बताया गया कि उन्होंने शिचुआन प्रांत की राजधानी की यात्रा के दौरान धन के बदले यौन संबंध की पेशकश की थी। हालांकि, शु के मित्रों ने इसे उनकी छवि को नुकसान पहुंचाने वाला आरोप करार देते हुए खारिज कर दिया था। 
शु को रविवार को रिहा किया गया और वह छह दिन हिरासत में रहने के बाद घर लौटे। जुलाई 2018 में शु ने सीपीसी नेतृत्व की अपनी पहली आलोचना प्रकाशित की थी। इसमें से एक में उन्होंने कुछ सार्वजनिक बयान शामिल किए थे जिनमें राष्ट्रपति के कार्यकाल की सीमाएं हटाने का विरोध किया गया था। दरअसल, कार्यकाल की ये सीमाएं हटाए जाने से शी चिनफिंग 2023 के बाद भी पद पर काबिज रह सकते हैं। 
शी (67) सीपीसी और चीनी सेना के प्रमुख हैं तथा अभी राष्ट्रपति पद पर उनका दूसरा कार्यकाल है। माओत्से तुंग को छोड़कर शी से पहले के सभी अधिकारियों ने पांच साल के दो कार्यकाल के नियम का अनुपालन किया । चीन की संसद नेशनल पीपुल्स कांग्रेस (एनपीसी) ने 2018 में पांच साल के कार्यकाल का नियम खत्म कर दिया और इसके जरिए शी के आजीवन कार्यकाल का मार्ग प्रशस्त कर दिया गया। 
facebook twitter