+

चिराग का नीतीश पर वार- अगर मैं जमूरा हूं तो मदारी कौन है, यह हमारे देश के PM का अपमान

चिराग पासवान ने मंगलवार को कहा कि "अगर उन्हें लगता है कि CM होने के बावजूद उनकी नाक के नीचे भ्रष्टाचार होता गया और उन्हें जानकारी नहीं। तो हो सकता है कि वो इतने भोले हों।"
चिराग का नीतीश पर वार- अगर मैं जमूरा हूं तो मदारी कौन है, यह हमारे देश के PM का अपमान
बिहार विधानसभा चुनाव के प्रथम चरण में कल होने वाले मतदान के पहले अब राज्य में सरगर्मी तेज हो गई है। इस बीच, लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) में शामिल दलों के बीच बयानबाजी तेज हो गई। वहीं  लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान ने सीएम नीतीश पर निशाना साधा है।
चिराग पासवान ने मंगलवार को कहा कि "अगर उन्हें लगता है कि CM होने के बावजूद उनकी नाक के नीचे भ्रष्टाचार होता गया और उन्हें जानकारी नहीं। तो हो सकता है कि वो इतने भोले हों। जांच में पता चल जाएगा कि 12करोड़ में से एकमात्र व्यक्ति जिसे बिहार में हुए भ्रष्टाचार की जानकारी नहीं वो हमारे मुख्यमंत्री जी।"
उन्होंने कहा कि "जमूरा कहा गया है न मुझे। मुझे बता दीजिए कि अगर मैं जमूरा हूं तो मदारी कौन है। निरंतर मुझे यही कहा जा रहा है कि मैं PM और BJP के इशारे पर काम कर रहा हूं। एक व्यक्ति के विरोध में आप हमारे देश के प्रधानमंत्री का विरोध करने लग जाते हैं।"
बता दें कि इससे पहले चिराग ने यह भी आरोप लगाया कि बिहार में पूर्ण शराबबंदी के बावजूद शराब की तस्करी जारी है। उन्होंने मुख्यमंत्री पर तीखा हमला बोलते हुए कहा, ‘‘इसकी तस्करी का पैसा मुख्यमंत्री की जेब में जाता है।’’ चिराग ने कहा कि मुख्यमंत्री जानते हैं कि उनके द्वारा लागू की गयी शराबबंदी विफल है। 
रोहतास जिले के नोखा में चुनावी रैली को संबोधित करते हुए चिराग ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से ‘सात निश्चय’ के तहत पाइप के जरिए पेयजल, नाली और गली का निर्माण करने को लेकर 'झूठ' बोलने का आरोप लगाते हुए कहा, “मुख्यमंत्री कहते हैं कि बिहार में कोई भ्रष्टाचार नहीं है, जबकि सात निश्चय में बिहार के इतिहास में सबसे बड़ा भ्रष्टाचार हुआ है।"
उन्होंने कहा, ‘‘इसलिए, हमने अपनी पार्टी के विजन डॉक्यूमेंट ‘बिहार फर्स्ट बिहारी फर्स्ट’ में उल्लेख किया है कि हमारी सरकार बनने पर सबसे पहले इस योजना के दस्तावेजों की जांच करायी जाएगी और दोषियों की पहचान कर चाहे मुख्यमंत्री या छोटे अधिकारी हों उन्हें जेल भेजा जाएगा।''
facebook twitter instagram