+

CM नीतीश कुमार ने सदन में खोया आपा, सदन के बीच सत्ता एवं विपक्ष के बीच हाथापाई की नौबत

नवगठित बिहार विधानसभा सत्र के दौरान राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद विवाद में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव के आरोपों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपा खोते हुए सदन में भड़क गये और खड़े होकर कहा कि यह लड़का झूठ बोल रहा है।
CM नीतीश कुमार ने सदन में खोया आपा, सदन के बीच सत्ता एवं विपक्ष के बीच हाथापाई की नौबत
नवगठित बिहार विधानसभा सत्र के दौरान राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद विवाद में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव के आरोपों पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आपा खोते हुए सदन में भड़क गये और खड़े होकर कहा कि यह लड़का झूठ बोल रहा है।
इसके बाप को मैंने प्रतिपक्ष का नेता बनवाया फिर मुख्यमंत्री बनवाया और इसको भी उपमुख्यमंत्री एवं प्रतिपक्ष के नेता मैंने ही बनवाया। यह हमारे दोस्त का बेटा है इसलिए इसके बातों पर ध्यान नहीं देता और बर्दाश्त करते रहता हूं। मगर ये खुद चार्जशीटेड है और मुझे ही चार्जशीटेड बताते रहता है यह ठीक नहीं है।
इसको लेकर सदन में सत्ता एवं विपक्ष शोर शराबा करते हुए आपस में भीड़ गये।यहां तक कि हाथापाई की नौबत आ गयी और एक-दूसरे पर टीका-टिप्पणी शुरू हो गया। विपक्ष एवं सत्तापक्ष ने सदन में भारी हंगामे को देखते हुए तथा वेल में पहुंचने के बाद नवनियुक्त स्पीकर विजय कुमार सिन्हा ने सदन की कार्रवाई आधे घंटे केलिए स्थगित कर दी।
इससे पूर्व प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव के भाषण को लेकर सदन में भारी हंगामा, शोरगुल एवं तू-तू मैं-मैं होता रहा। इसके बाद सदन में बौखलाये सदस्यों ने काफी देर तक हंगामा करते रहे।
दूसरी बार सदन की कार्यवाही शुरू हुई तो मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने सरकार की ओर से उतर देते हुए कहा कि केन्द्र व राज्य सरकार मिलकर बिहार को नयी ऊंचाइ्यों तक पहुंचायेंगे और विकास कार्य को आगे बढ़ाने से कोई नहीं रोक सकता। पूरी दुनिया कोरोना के चपेट में आने से सहम गयी है इससे लगता है कि कोरोना और बढ़ सकता है बिहार में प्रतिदिन एक लाख से ज्यादा जांच हो रही है कल तक का रिपोर्ट है कि राज्य में 1.20 लाख लोगों की जांच की गयी।
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कोरोना से बचाव कार्य एवं वैक्सिन टीका को लेकर मुख्यमंत्रियों केसाथ चर्चा की है और चर्चा के बाद गाइड लाइन भी जारी की गयी। यह नहीं कह सकते हैं कि वैक्सिन कब निकल आयेगा, इसके लिए राज्य सरकार द्वारा राज्य में वैक्सिन के रख रखाव हेतु परी तैयारी की जा रही है।
सबसे पहले वैक्सिन चिकित्सा क्षेत्र में लगे लोगों को दी जायेगी। यहां पर कोरोना का पता नहीं चल रहा है कि यह जाड़े या गर्मी दोनों मौसम में बीमारी बढ़ रहा है उससे संतुष्ट नहीं सजग रहने की जरूरत है। मास्क का प्रयोग कर समान दूरी बनाकर रहना चाहिए।
इससे बचने हेतु गर्भवती महिलाएं, वृद्घ एवं बच्चे बच्चियों को अकारण घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। उन्होंने विपक्ष पर हमलावर होते हुए कहा कि जो बिहार के लोगों ने काम पर भरोसा जताते हुए मैंडेट दिया है उन्हें मैं दिल से बधाई देता हूं। एनडीए सरकार ने राज्य में बहुत सारे कार्य किये हैं।
सड़क, स्कूल, साइकिल, पोषाक, खादान योजनाओं को पारदर्शी ढंग से लोगों तक पहुंचाया है। हर क्षेत्र में कार्य किया है। पहले अस्पताल में इलाज के लिए मात्र 100 लोग आते थे लेकिन आज उनकी संख्या 10 हजार बढ़ गयी है। हमारी सरकार समाज के हर वर्ग के लोगों के विकास एवं उत्थान किया है।
सात निश्चय पर काम हो रहा है पहले हमलोग महागठबंधन के साथ थे लेकिन उनसे हटने के बाद एनडीए के साथ चले गये। पर भी राज्य में एनडीए के साथ सरकार बनाया और सात निश्चय के तहत हर घर नल का जल पर कार्य किया। राज्य में मेडिकल, इंजीनियरिंग, पॉलिटेक्निक कॉलेजों की स्थ्ज्ञापना की।
हर घर बिजली पहुंचाया जहां बिजली के क्षेत्र में पहले 700 मेगावाट हुआ करती थी आज वह बढ़कर 7 हजार मेगावाट हो गयी है। पर्यावरण के क्षेत्र में कार्य हुआ है। जल जीवन हरियाली के माध्यम से पर्यावरण के क्षेत्र में बहुत सारे कार्य किये गये हैं। यह विशेष सत्र का अवधि तो खास है।
अगले सत्र में राज्यपाल के अभिभाषणको डिटेल से सदन केपटल पर रखेगे। अगर विपक्ष के माध्यम से किसी भी कार्य में चूक की सूचना मिलते ही उस पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जायेगी। हमलोग बजट सत्र में एक साथ बैठकर एक-एक कार्यों पर चर्चा करेंगे, विमर्श करेंगे।
तेजस्वी प्रसाद यादव को आड़े हाथों लेते हुए उन्होंने कहा कि अब भी मर्यादा को ध्यान में रखना होगा तभी वे आगे बढ़ेंगे। हर पार्टी का कार्य करने का अलग-अलग तरीका है। अगर एक वोट से भी किसी व्यक्ति की जीत होती है तो उसे लोकतंत्र में जीत ही कहा जाता है।
किसी पर कोई व्यक्तिगत आरोप लगता है तो वह गलत है। हमारे बारे में लोग हाई कोर्ट और सुप्रीम कोर्ट गये लेकिन उन्हें कुछ नहीं मिला। नियमों का उल्लंघन कर कोई कार्य नहीं होना चाहिए। धान अधिप्राप्ति कार्य शुरू किया जा रहा है। इसमें माले भी चुनाव जीतकर आ गये हैं जो समाज में सामाजिक सौहार्द्र बिगाड़ने का प्रयास कर रहे हैं।
इसके लिए हम जनता के साथ सामाजिक सौहार्द्र बनाने के लिए खड़े हैं। प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी प्रसाद यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर मर्डर केस एवं अन्य मामले में चार्जशीटेड होने का आरोप लगाते हुए कहा कि नीतश सरकार चोर दरवाजे से मुख्यमंत्री बन गये हैं लेकिन बिहार की जनता की आवाज इस सदन में है।
बिहार में एक भी कल-कारखाने खोले नहीं गये। उल्टा राज्य की जनता को अपनी निक्कमी छुपाने के लिए कहा गया कि कल कारखाने इस लिए नहीं खोला गया क्योंकि यहां समुद्री किनारा नहीं है का हवाला दिया गया। इसी देश में जब रेलमंत्री लालू प्रसाद यादव थे तो दो दो रेलवे का कारखाना खोला गया।
समुद्र का मामला नहीं आया। इसी राज्य में मुख्यमंत्री को डीएनए खराब बताया गया जिसके कारण मुख्यमंत्री जी लोगों से नाखून व बाल कटवा कर संग्रह करने में लगे थे। जब केन्द्र में वाजपेयी जी की सरकार थी तो राबड़ी सरकार ने आंचल फैलाकर बिहार को विशेष राज्य का दर्जा मांगी थी लेकिन नहीं मिला।
केन्द्र व राज्य में जब डबल इंजन की सरकार है तो अब विशेष राज्य का दर्जा का क्या हाल है। कोरोना काल में मुख्यमंत्री जी बाहर नहीं निकले उस समय बाढ़ से लोग परेशान थे। मुख्यमंत्री जी चुप्पु साध ली। राज्य में लॉ इन ऑर्डर का खास्ता हाल है जितना मुझे लोग गाली दे रहे हैं उस पर कोई असर नहीं पड़ेगा, सुनते-सुनते इसका आदि हो गये हैं।
हमारी मांग है कि कोसी, सीमांचल के विकास केलिए आयोग बने। यहां केवल नियम कानून की बात करते करते पूर्व इतिहास की बात करने लगते हैं जिससे विकास की बात खत्म हो जाती है। इस अवसर पर कांग्रेस विधायक दल के नेता अजीत शर्मा, भाकपा माले विधायक दल के नेता महबूब आलम, माकपा के रामरतन सिंह, भाजपा के राणा रंधीर सिंह आदि ने राज्यपाल के अभिभाषणके बाद ‌वाद विवाद में शामिल हुए।
facebook twitter instagram