+

कृषि बिल का CM शिवराज ने किया समर्थन, कांग्रेस को बताया किसान विरोधी

शिवराज सिंह ने कहा, झूठ बोलना और भ्रम फैलाना कांग्रेस की फितरत है, मोदी जी का नाम सुनकर तो सपने में भी चौंक जाते हैं और उठकर विरोध करने लगते हैं।
कृषि बिल का CM शिवराज ने किया समर्थन, कांग्रेस को बताया किसान विरोधी
संसद में मोदी सरकार के कृषि संबंधी तीन बिल पास हो गए हैं। बिल को लेकर देश के कई हिस्सों में ज़ोरदार प्रदर्शन हो रहा है। सरकार जहां इसे किसानों का उदार करने वाला बता रही है, वहीं विपक्ष ने इसको किसान विरोधी करार दिया है। कांग्रेस के विरोध पर मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि झूठ बोलना और भ्रम फैलाना कांग्रेस की फितरत है।
बिल के समर्थन में बोलते हुए शिवराज ने कहा, ये तीन बिल इसलिए लाए है ताकि किसानों की आय दोगुनी हो सके। किसान अपनी उपज को कहीं भी बेच सकता है। घर पर ही सही दाम मिले और किसान अपनी फसल बेचता है, तो कांग्रेस को क्या आपत्ति है।

लफ्फाजी का लॉलीपॉप हो गए हैं राहुल गांधी : मुख्तार अब्बास नकवी

परन्तु झूठ बोलना और भ्रम फैलाना कांग्रेस की फितरत है, मोदी जी का नाम सुनकर तो सपने में भी चौंक जाते हैं और उठकर विरोध करने लगते हैं। ये केवल मोदी जी का विरोध नहीं किसानों का विरोध है और किसान इसे सहन नहीं करेगा। ये तीनों बिल किसान के हित में हैं।
बुधवार को इंदौर में संवादाताओं से बोलते हुए शिवराज ने इन विधेयकों के विरोध में उतरे विपक्षी दलों को 'किसानद्रोही' करार देते हुए आरोप लगाया कि वे बिचौलियों की पैरवी कर रहे हैं। दूरदृष्टि से फैसले करने वाले प्रधानमंत्री मोदी किसानों के भगवान हैं। कृषि सुधारों से संबंधित तीनों विधेयक किसानों के लिए वरदान हैं जिनसे किसानों की आय दोगुनी होगी।'
गौरतलब है कि विपक्ष के भारी विरोध के बीच संसद में कृषि से सम्बंधित तीन बिलों को पास कर दिया गया है। कांग्रेस सहित सम्पूर्ण विपक्ष ने इन बिलों को किसान विरोध बता दिया है, वहीं कांग्रेस ने इसे किसानों का डेथ वारंट तक करार दिया। केंद्र की मोदी सरकार के इन बिलों के खिलाफ संसद से सड़क तक विरोध हो रहा है। 
हरियाणा और पंजाब में किसान लगातार इन बिलों के खिलाफ सड़कों पर उतरे हुए हैं। 25 सितंबर को किसानों ने पंजाब बंद का एलान किया है। किसानों ने साफ कर दिया है कि वे कृषि विधेयकों को बिल्कुल स्वीकर नहीं करेंगे।  

facebook twitter