+

CM योगी ने बरसात के मौसम में स्वच्छता में कोई कमी नहीं बरतने का दिए निर्देश

CM योगी ने बरसात के मौसम में स्वच्छता में कोई कमी नहीं बरतने का दिए निर्देश
उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बरसात में स्वच्छता में कोई कमी नहीं बरतने का सोमवार को निर्देश दिया। कोविड-19 संक्रमण तथा वर्षा ऋतु में संचारी रोगों के प्रसार के दृष्टिगत प्रभावी कार्यवाही होनी चाहिये। राज्य सरकार के एक प्रवक्ता ने यहां बताया कि मुख्यमंत्री ने सोमवार को उच्चस्तरीय बैठक में आगामी एक से 31 जुलाई तक संचालित किए जाने वाले संचारी रोग नियंत्रण अभियान की तैयारियों की भी समीक्षा की। उन्होंने निर्देश दिए कि प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र को संचारी रोग के सम्बन्ध में सतर्क रखा जाए। 
योगी ने कहा कि संचारी रोगों को नियंत्रित करने में जागरूकता की महत्वपूर्ण भूमिका है। इसके मद्देनजर सूचना विभाग द्वारा स्वास्थ्य विभाग के साथ समन्वय करते हुए प्रचार-प्रसार का व्यापक अभियान चलाते हुए लोगों को संचारी रोगों से बचाव की जानकारी दी जाए। मुख्यमंत्री ने नगर विकास विभाग, विकास प्राधिकरणों तथा स्थानीय निकायों को शहरी इलाकों में तथा पंचायतीराज विभाग एवं ग्राम्य विकास विभाग को ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता का वृहद अभियान संचालित करने के निर्देश दिए। 
उन्होंने कहा कि इस अभियान में सभी सरकारी विभागों तथा निजी कार्यालयों की सक्रिय सहभागिता सुनिश्चित कराई जाए। फॉगिंग तथा एन्टी लार्वा रसायनों का छिड़काव प्रभावी ढंग से किया जाए। योगी ने कोविड-19 के सबसे ज्यादा असर वाले गौतमबुद्ध नगर तथा गाजियाबाद के साथ ही पूरे मेरठ मण्डल में पूरी सतर्कता तथा सावधानी बरतने का निर्देश दिया। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड -19 चिकित्सालयों में व्यवस्थाओं को चुस्त-दुरुस्त रखा जाए। कोविड-19 अस्पतालों में बेड की संख्या को बढ़ाया जाए। उन्होंने हर जिले में आक्सीजन की सुचारु आपूर्ति एवं उपलब्धता बनाए रखने के निर्देश दिए। 

एनसीपी प्रमुख शरद पवार के काफिले की कार मुंबई-पुणे एक्सप्रेसवे पर पलटी, हादसे में एक पुलिसकर्मी घायल


योगी ने कोविड-19 जांच क्षमता में लगातार वृद्धि के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि जांच क्षमता बढ़ाने के लिए विभिन्न संस्थानों में उपलब्ध संसाधनों का पूरा उपयोग किया जाए। ट्रूनैट मशीनों तथा रैपिड एन्टीजेन जांच मशीनों को पूरी क्षमता से संचालित करते हुए ज्यादा से ज्यादा जांच की जाएं। संक्रमण पर नियंत्रण के लिए निजी चिकित्सालयों में ट्रेूनैट मशीनों के प्रयोग के बढ़ावा दिया जाए। 
मुख्यमंत्री ने कोविड-19 हेल्प डेस्क की स्थापना के कार्य को तेज गति से जारी रखने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी विभागों एवं संस्थाओं में कोविड-19 हेल्प डेस्क स्थापित की जाए। निजी चिकित्सालयों को हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए प्रेरित किया जाए। यह सुनिश्चित किया जाए कि ओपीडी संचालित करने वाले अस्पताल में कोविड-19 हेल्प डेस्क अनिवार्य रूप से स्थापित हों। 
योगी ने कहा कि सम्पर्क में आने वाले लोगों से संक्रमण होने की सम्भावना रहती है। इसे ध्यान में रखते हुए क्षेत्र में तैनात शासकीय अधिकारियों एवं कर्मचारियों द्वारा विशेष सावधानी बरती जाए। किसी कर्मी के संक्रमित हो जाने की स्थिति में अविलम्ब उसके स्थान पर किसी दूसरे कर्मी की तैनाती की जाए। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि समय से पहले मानसून आने के मद्देनजर बाढ़ नियंत्रण के सम्बन्ध में पूरी सतर्कता बरती जाए। बाढ़ राहत शिविर समय से तैयार कर लिए जाए। टिड्डी दल को नियंत्रित करने के लिए प्रभावी कार्यवाही की जाए। गौ-आश्रय स्थलों की व्यवस्था को सुदृढ़ करते हुए गौवंश के लिए चारे की सुचारु व्यवस्था सुनिश्चित की
facebook twitter