महाराष्ट्र में कांग्रेस-NCP-शिवसेना का शक्ति प्रदर्शन, 162 विधायकों ने ली एकजुटता की शपथ

महाराष्ट्र में मचे सियासी घमासान के बीच शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस अपने 162 विधायकों की होटल हयात में मीडिया के सामने परेड हुई। विधायकों को सोनिया गांधी, शरद पवार और उद्धव ठाकरे का नाम लेकर संविधान की शपथ दिलाई गई कि वह भाजपा का समर्थन नहीं करेंगे। वही शिवसेना नेता संजय राउत ने ट्वीट कर कहा कि राज्यपाल को सोमवार शाम को मुंबई के होटल में आकर शिवसेना, राकांपा, कांग्रेस के 162 विधायकों को देखना चाहिए। 
बता दें शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के नेताओं ने सोमवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के पास एक पत्र भेजा जिसमें उन्होंने दावा किया कि राज्य में सरकार गठन के लिए उनके पास आवश्यक संख्या है। पत्र पर शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस के विधायक दल के नेताओं एकनाथ शिंदे, जयंत पाटिल और बालासाहेब थोराट के हस्ताक्षर हैं। 

तीन दलों के चुनाव पश्चात बने गठबंधन ‘महा विकास अघाड़ी’ ने दावा किया कि उनके पास बहुमत है जबकि हाल में शपथ ले चुके मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के पास सरकार गठन के लिए विधायकों का आवश्यक संख्या नहीं है। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बोले- भाजपा ने आदिवासियों को सम्मान देकर आगे बढ़या

दलों ने पत्र में लिखा, ‘‘विश्वास मत में फडणवीस के बहुमत साबित करने में असफल होने के बाद सरकार गठन के शिवसेना के दावे पर विचार करना चाहिए।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमने शिवसेना के दावे का समर्थन कर रहे राकांपा और कांग्रेस के विधायकों के नाम की सूची संलग्न की है। इसके अलावा कई छोटे दलों और निर्दलीय विधायकों की सूची भी है जिन्होंने हमें समर्थन दिया है। 

सरकार गठन के लिए हमें तत्काल बुलाया जाना चाहिए।’’ पत्र सौंपने के बाद राकांपा की राज्य इकाई के प्रमुख जयंत पाटिल ने कहा, ‘‘तीन दल-शिवसेना, राकांपा और कांग्रेस तथा छोटे सहयोगी महाराष्ट्र में सरकार गठन के शिवसेना के दावे के समर्थन में आए 162 विधायकों की परेड करवाने को तैयार हैं।’’ 

LIVE UPDATE :-

-शरद पवार ने कहा कि हम यहा महाराष्ट्र की जनता के लिए यहां जुटे हैं। गठबंधन सिर्फ कुछ समय के लिए नहीं, लंबे समय तक के लिए हैं। भाजपा को निशाने पर लेते हुए उन्होंने कहा कि जो लोग केंद्र में हैं उन्होंने एक और राज्य में यह काम किया था। यह उनका इतिहास है. उन्होंने गलत तरीके से यह सरकार बनाई है। पवार ने कहा कि महाराष्ट्र में कुल 288 सीटें हैं। सबसे ज्यादा जीते विधायक यहां पर हैं। कर्नाटक, गोवा, मणिपुर में बहुमत न होते हुए भी इन्होंने पावर का दुरुपयोग कर सरकार बनाई। देश का इतिहास अब बदलेगा, जिसकी शुरुआत महाराष्ट्र से होगी। 

-कांग्रेस, शिवसेना और एनसीपी के विधायकों ने कहा, "मैं संकल्प लेता हूं कि शरद पवार, उद्धव ठाकरे और सोनिया गांधी के नेतृत्व में मैं अपनी पार्टी के लिए ईमानदार रहूंगा। मैं ऐसा कुछ भी नहीं करूंगा, जिससे भाजपा को फायदा मिले।"

-शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि "हमारी लड़ाई सिर्फ सत्ता के लिए नहीं है, बल्कि सत्यमेव जयते के लिए है। आप हमें जितना तोड़ने की कोशिश करेंगे, हम उतना ही एकजुट होंगे।"

-पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा हम केवल 162 नहीं, से ज्यादा हैं. हम सभी सरकार का हिस्सा होंगे। मैं सोनिया गांधी का धन्यवाद करता हूं, जिन्होंने भाजपा को रोकने के मद्देनजर इस गठबंधन के लिए अपनी मंजूरी दी। राज्यपाल को चाहिए कि वे हमें सरकार बनाने के लिए आमंत्रित करें।"

-शिवसेना अध्यक्ष उद्धव और आदित्य ठाकरे भी होटल हयात पहुंचे। वहां पहले से मौजूद हैं एनसीपी, कांग्रेस और शिवसेना के नेता। 
Tags : Badrinath,चारधाम यात्रा,बद्रीनाथ,हिमपात,Snow,भीषण ठंड,Kedarnath Dham,केदारनाथ धाम,Chardham Yatra,Gruzing cold ,Congress-NCP,Shiv Sena,power show,Sanjay Raut,Maharashtra,governor,Congress,hotel,Mumbai