+

बिहार चुनाव : कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी, किसानों की कर्ज माफी और मुफ्त बिजली का किया वादा

पटना में स्थित बिहार कांग्रेस मुख्यालय में घोषणा पत्र जारी करते हुए पार्टी नेता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में आने पर किसानों का कर्ज माफ करेगी और बिजली बिल भी माफ करेगी।
बिहार चुनाव : कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी, किसानों की कर्ज माफी और मुफ्त बिजली का किया वादा
बिहार विधानसभा चुनाव के लिए कांग्रेस ने अपना घोषणा पत्र जारी कर दिया है। पार्टी ने अपने घोषणा पत्र को 'बदलवाव पत्र' नाम दिया है। सत्ता में आने पर कांग्रेस ने बिहार के किसानों के कर्ज पर बिजली बिल की माफी के वादे के साथ बेरोजगारों को नौकरी मिलने तक हर महीने 1500 रुपये देने का वादा किया है।
घोषणा पत्र जारी करने के दौरान मंच पर कांग्रेस के वरिष्ठ प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला, पार्टी नेता शक्ति सिंह गोहिल और राजबब्बर जैसे कई बड़े नेता मौजूद रहे। पटना में स्थित बिहार कांग्रेस मुख्यालय में घोषणा पत्र जारी करते हुए पार्टी नेता शक्ति सिंह गोहिल ने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में आने पर किसानों का कर्ज माफ करेगी और बिजली बिल भी माफ करेगी। 
उन्होंने कहा, कांग्रेस किसानों को फसल का सही मूल्य दिलाने के लिए काम करेगी। और पंजाब की तर्ज पर केंद्र के कानून को खारिज किया जाएगा। उन्होंने कहा, किसान अगर ट्रैक्टर खरीदते हैं तो उसका रजिस्ट्रेशन मुफ्त किया जाएगा। रणदीप सुरजेवाला ने कहा, विधवा महिलाओं को 1000 का पेंशन दिया जाएगा। राज्य सरकार लड़कियों को पीजी से केजी तक शिक्षा मुफ्त मिलेगी।अंतरराष्ट्रीय खेल प्रतियोगिताओं में मेडल लाने वाले को सीधे नौकरी की जाएगी।
कांग्रेस नेता राजबब्बर ने कहा कि अगर कांग्रेस सत्ता में आती है तो नौकरी मिलने तक बेरोजगारों को हर महीने 1500 रुपये देगी। इसके साथ ही सरकार बनने पर पहली कैबिनेट बैठक में 10 लाख नौकरी देने का फैसला लिया जाएगा। मौजूदा सरकार के खिलाफ बोलते हुए राजबब्बर ने कहा कि सरकार ने युवाओं के साथ छल किया है और युवा उसका जवाब देंगे।  
बिहार की 243 सदस्यीय विधानसभा के लिए तीन चरणों में चुनाव होना है। चुनाव का पहला चरण 28 अक्टूबर, दूसरा 3 नवंबर और तीसरा 7 नवंबर को होना है। 10 नवंबर को चुनाव के नतीजे सामने आएंगे। चुनाव में कांग्रेस राजद के साथ मिलकर 70 सीट पर चुनाव लड़ रही है। पार्टी ने सभी सीट पर उम्मीदवार घोषित कर दिए हैं।
 पार्टी ने सबसे ज्यादा टिकट सवर्ण, उसके बाद दलित और तीसरे नंबर पर मुस्लिम है। सवर्णों में पार्टी ने 9 ब्राहमण उम्मीदवार बनाए हैं। जबकि अनुसूचित जाति से 14 और 12 मुस्लिम उम्मीदवार हैं। ब्राहमण, दलित और मुस्लिम कांग्रेस को परंपरागत वोट रहा है। चुनाव में पार्टी इन मतदाताओं पर फोकस करेगी।
facebook twitter instagram