+

MCD चुनाव में हारकर भी किंगमेकर की भूमिका में होगी कांग्रेस, मेयर चुनाव बनेंगे वजह

दिल्ली में नगर निगम चुनाव ने एक अलग तरह का माहौल बना रखा है। एमसीडी चुनाव में आम आदमी पार्टी और भारतीय जनता पार्टी में बराबर की टककर देखने को मिल रही है।
MCD चुनाव में हारकर भी किंगमेकर की भूमिका में होगी कांग्रेस, मेयर चुनाव बनेंगे वजह
दिल्ली में नगर निगम चुनाव ने एक अलग तरह का माहौल बना रखा है। एमसीडी चुनाव में आम आदमी पार्टी  और भारतीय जनता पार्टी में बराबर की टककर देखने को मिल रही है। दोनों पार्टियों की तुलना में कांग्रेस काफी पीछे रह गई है। सुबह 10 बजे तक कांग्रेस सिर्फ 7 वार्डों में बढ़त हासिल कर पाई थी। 
हालांकि, अगर आप या भाजपा बहुमत के निशान से नीचे जाती है तो कांग्रेस, हालांकि एक पिछड़ी हुई, किंगमेकर की भूमिका में हो सकती है। महापौर चुनाव में कांग्रेस पार्षदों की भूमिका अहम हो जाएगी। कुछ सीटों पर निर्दलीय भी चुनाव जीतने की स्थिति में नजर आ रहे हैं।
कार्यालय में जश्न की पूरी तैयारी
एमसीडी में लगातार 15 साल से भाजपा की सरकार रही है। आम आदमी पार्टी ने इस बार 'कचरे के पहाड़' को मुद्दा बनाकर बीजेपी से सत्ता छीनने की पूरी कोशिश की है। मिलने की थी भविष्यवाणी मतगणना शुरू होने से पहले ही आम आदमी पार्टी कार्यालय में जश्न की पूरी तैयारी कर ली गई थी। 
एमसीडी पर 15 साल से भारतीय जनता पार्टी का कब्जा है और अब जो एग्जिट पोल सामने आए हैं वे आम आदमी पार्टी की जीत दिखती हुई नज़र आ रही है। एमसीडी के एग्जिट पोल के आंकड़ों पर नजर डालें तो आप को 149-171 सीटें, बीजेपी को 69-91 और कांग्रेस को सिर्फ 3 से 7 सीटें मिलने का अनुमान है। वहीं, जन की बात के एग्जिट पोल के मुताबिक आप को 159 से 175 सीटें, बीजेपी को 70 से 92 और कांग्रेस को सिर्फ 4 से 7 सीटें मिल रही हैं। 

facebook twitter instagram