+

बीफ पर पर्यटन विभाग के ट्वीट से खड़ा हुआ विवाद, केरल सरकार ने कहा-धार्मिक भावनाएं आहत करना मकसद नहीं

मकर संक्रांति पर 15 जनवरी के दिन इस ट्वीट पर कुछ लोगों ने नाखुशी जताई। इस हिंदू त्योहार को देश के अनेक हिस्सों में पोंगल, बिहू और लोहड़ी आदि पर्वों के साथ मनाया जाता है।
बीफ पर पर्यटन विभाग के ट्वीट से खड़ा हुआ विवाद, केरल सरकार ने कहा-धार्मिक भावनाएं आहत करना मकसद नहीं
मकर संक्रांति पर केरल के पर्यटन विभाग के ‘बीफ’ वाले ट्वीट से विवाद खड़ा हो गया है जिसके बाद माकपा नीत एलडीएफ सरकार ने शुक्रवार को सफाई दी कि उनका मकसद किसी की धार्मिक भावनाओं को आहत करना नहीं है। पर्यटन मंत्री कडकमपल्ली सुरेंद्रन ने केरल के व्यंजन ‘बीफ उलरतियातु’ पर पर्यटन विभाग के ट्वीट की आलोचना करने वालों पर इसे सांप्रदायिक रंग देने की कोशिश का आरोप लगाया और कहा कि इस दक्षिणी राज्य में खानपान का धर्म से कोई लेनादेना नहीं है। 
पर्यटन विभाग के ट्वीट में एक व्यंजन बनाने की विधि के साथ लिखा गया, ‘‘खुशबूदार मसालों, नारियल के टुकड़ों और कड़ी पत्ते के साथ धीमी आंच पर भूने गये बीफ के नर्म टुकड़े। मसालों की धरती केरल से शानदार डिश, बीफ उलरतियातु की रेसिपी।’’ मकर संक्रांति पर 15 जनवरी के दिन इस ट्वीट पर कुछ लोगों ने नाखुशी जताई। इस हिंदू त्योहार को देश के अनेक हिस्सों में पोंगल, बिहू और लोहड़ी आदि पर्वों के साथ मनाया जाता है। 
सुरेंद्रन ने कहा कि इस मामले को सांप्रदायिक रंग देने वाले लोग यह कहकर विवाद खड़ा कर रहे हैं कि विभाग को पोर्क के व्यंजनों की तस्वीरें भी डालनी चाहिए। पर्यटन मंत्री ने कहा कि वेबसाइट पर पोर्क से बनी कई डिशों की जानकारी पहले ही है। 
facebook twitter