+

कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब सरकार सख्त-स्कूल और कॉलेज 10 अप्रैल तक रहेंगे बंद

पंजाब में कोविड-19 के मामले बढ़ रहे है। इसी को लेकर राज्य सरकार ने मंगलवार को पाबंदियों की अवधि बढ़ा दी और अब स्कूल एवं कॉलेज अगले दस दिनों तक और बंद रहेंगे।
कोरोना के बढ़ते मामलों के मद्देनजर पंजाब सरकार सख्त-स्कूल और कॉलेज 10 अप्रैल तक रहेंगे बंद
पंजाब में कोविड-19 के मामले बढ़ रहे है। इसी को लेकर राज्य सरकार ने मंगलवार को जांच और कोरोना वायरस टीकाकरण की रफ्तार बढ़ाने का भी आदेश दिया।  सरकार ने मंगलवार को पाबंदियों की अवधि बढ़ा दी और अब स्कूल एवं कॉलेज अगले दस दिनों तक और बंद रहेंगे। उन्हें अधिकारियों ने बताया कि मध्य मई तक ही रोजाना मामलों में गिरावट आने की उम्मीद है। एक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को सचल टीकाकरण केंद्रों की स्थापना के लिए स्थानों की पहचान करने का भी निर्देश दिया। 
पंजाब सरकार ने 19 मार्च को सिनेमाघरों, मॉलों एवं सामाजिक कार्यक्रमों में लोगों के जमावड़े पर पाबंदी के साथ साथ शैक्षणिक संस्थानों को इस माह के आखिर तक बंद रखने का आदेश दिया था। बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने मंगलवार को आदेश दिया कि पहले जो पाबंदियां 31 मार्च तक थीं अब वे 10 अप्रैल तक प्रभाव में रहेंगी। 
पहले राज्य सरकार ने आदेश दिया था कि मॉलों में एक वक्त में 100 से अधिक व्यक्तियों को इजाजत नहीं होनी चाहिए और सिनेमाघरों को आधी सीटें खाली रखने को कहा गया था। सबसे अधिक प्रभावित 11 जिलों में अंतिम संस्कार एवं शादियों को छोड़कर सभी सामाजिक जमावड़े पर पूर्ण पाबंदी लगायी गयी थी । अंतिम संस्कार एवं शादियों में भी 20 लोगों को ही इजाजत होगी। मुख्यमंत्री ने मंगलवार को स्वास्थ्य विभाग को, प्राथमिकता श्रेणियों को ध्यान में रखकर टीकाकरण केंद्रों की संख्या बढ़ाने को निर्देश दिया। 
स्थिति पर चिंता प्रकट करते हुए उन्होंने मुख्य सचिव विनी महाजन को बाजारों एवं भीड़-भाड़ वाले अन्य स्थानों पर जांच एवं टीकाकरण करने के लिए जरूरी निर्देश जारी करने को कहा। बयान के अनुसार, सिंह ने सभी उपायुक्तों एवं सिविल सर्जनों को उन जगहों की पहचान करने को कहा जहां चलते-फिरते टीकाकरण केंद्र बनाये जा सकते हैं। हाल के सर्वेक्षण में सामने आया कि ब्रिटेन में कोरोना वायरस का जो नया स्वरूप सामने आया है, उसके मामले राज्य में भी तेजी से सामने आ रहे हैं। 
समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री को बताया गया कि कुछ जिलों में नये मामले और मरीजों की मौत के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और लुधियाना में छह अप्रैल के आसपास इनके अत्यधिक होने की आशंका है। अनुमानों के अनुसार, मध्य या आखिर मई तक मामलों में गिरावट आयेगी एवं जालंधर, लुधियाना, पटियाला, साहिबजादा अजीत सिंह नगर, होशियारपुर और कपूरथला में और अधिक मामले सामने आ सकते हैं। अधिकारियों के अनुसार, संक्रमण दर 40 वर्ष से कम उम्र के लोगों में अधिक रहने की आशंका है। पंजाब में सोमवार कोविड-19 के 2,914 मामले सामने आये और 59 मरीजों की जान चली गयी। 


facebook twitter instagram