+

CSK को परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करने की जरूरत है : धोनी

धोनी ने आईपीएल में लगातार सातवीं हार के बाद कहा कि उनकी टीम को परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करने की जरूरत है।
CSK को परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करने की जरूरत है : धोनी
चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) में लगातार सातवीं हार के बाद कहा कि उनकी टीम को परिणाम नहीं बल्कि प्रक्रिया पर गौर करने की जरूरत है और इसके लिए उन्हें आगे के मैचों में ठोस कदम उठाने होंगे। चेन्नई की टीम राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ 5 विकेट पर 125 रन ही बना पाई और 7 विकेट से मैच हार गई। उनके 10 मैचों में केवल 6 अंक हैं और CSK पर आईपीएल में पहली बार प्लेऑफ में नहीं पहुंच पाने का खतरा मंडरा रहा है।
धोनी ने मैच के बाद कहा कि ‘‘परिणाम हमेशा आपके अनुकूल नहीं होता है। हमें देखना होगा कि क्या प्रक्रिया गलत थी। परिणाम इस प्रक्रिया का नतीजा होता है। यही सच्चाई है कि अगर आप प्रक्रिया पर ध्यान केंद्रित रखते हो तो परिणाम को लेकर बेवजह का दबाव टीम पर नहीं पड़ता है। हम इससे निबटने का प्रयास कर रहे हैं।  धोनी ने पहले 9 ओवरों में ही दीपक चाहर (18 रन देकर दो) और जोश हेजलवुड (19 रन देकर एक) का कोटा पूरा करवा दिया था। उन्होंने कहा कि पहली पारी की तरह स्पिनरों को दूसरी पारी में अधिक मदद नहीं मिल रही थी।
धोनी ने कहा, तेज गेंदबाजों को थोड़ी मदद मिल रही थी। इसलिए मैंने यह देखने के लिए कि गेंद कितना रुककर बल्ले पर आ रही बीच में 1 ओवर (रविंद्र) जडेजा को दिया। यह पहली पारी की तरह नहीं था इसलिए मैंने तेज गेंदबाजों से अधिक ओवर करवाए। मुझे नहीं लगता कि स्पिनरों को बहुत मदद मिल रही थी। 
धोनी ने लगातार हार के बावजूद टीम में बहुत अधिक बदलाव नहीं करने के बारे में कहा, आप बहुत अधिक बदलाव नहीं चाहते क्योंकि 3-4-5 मैचों में आप किसी चीज को लेकर सुनिश्चित नहीं होते है। मैं टीम में असुरक्षा का भाव नहीं चाहता हूं।
युवाओं को कम मौके देने के बारे में उन्होंने कहा, यह सही है कि हमने इस बार (युवाओं को) उतने मौके नहीं दिए। ऐसा भी हो सकता है कि हमें अपने युवाओं में जुनून ना दिखाई दिया हो। हम आगे उन्हें मौका दे सकते हैं और वे बिना किसी दबाव के खेल सकते हैं। 
राजस्थान रॉयल्स के कप्तान स्टीव स्मिथ ने स्वीकार किया कि बल्लेबाजी करना आसान नहीं थी लेकिन बटलर की पारी ने उन पर से दबाव हटाया। स्मिथ ने कहा, गेंद रुककर बल्ले पर आ रही थी। बल्लेबाजी आसान नहीं थी। यह अजीब मैच था लेकिन अच्छा है कि हमने इसमें जीत हासिल की। बटलर की पारी ने मुझ पर से दबाव हटाया। यह वास्तव में मुश्किल विकेट पर शानदार पारी थी।
तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर ने 20 रन देकर 1 विकेट लिया जबकि उसके दोनों स्पिनरों श्रेयस गोपाल (14 रन देकर एक) और राहुल तेवतिया (18 रन देकर एक) ने मिलाकर 8 ओवर में 32 रन देकर 2 विकेट लिए और चेन्नई के बल्लेबाजों को दबाव में रखा। स्मिथ ने कहा, मुझे लगता है कि हमने पावरप्ले में बहुत अच्छी गेंदबाजी की और स्पिनरों ने अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभाई। श्रेयस पिछले 2 वर्षों से हमारे लिए शानदार भूमिका निभा रहा है। तेवतिया चाहे बल्लेबाजी हो या गेंदबाजी या क्षेत्ररक्षण अपनी भूमिका अच्छी तरह से निभा रहा है। 
जोस बटलर को उनकी नाबाद 70 रन की पारी के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया। उन्होंने कहा कि वह क्रीज पर सहज महसूस कर रहे थे। बटलर ने कहा, हमने पिछले 2 मैच अपने हाथ से जाने दिए थे इसलिए आज जीतना अच्छा लगा। मैं पिछले मैच की तुलना में क्रीज पर अधिक सहज महसूस कर रहा था। यह बहुत अच्छा अहसास है। 
टी20 क्रिकेट में खराब फॉर्म  के लिए आप खुद जिम्मेदार होते हो क्योंकि आप बहुत अधिक गेंदों का सामना नहीं करते हो। आप को स्वयं पर विश्वास करना होता है। बल्लेबाजी क्रम में पांचवें नंबर पर उतरने के बारे में उन्होंने कहा, अगर हम जीत रहे हैं तो यह अच्छा है। टीम मुझे जिस भी नंबर पर बल्लेबाजी के लिए भेजे मैं उसमें खुश हूं।
facebook twitter instagram