रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने तेजस में भरी उड़ान, कहा- मेरे लिए गर्व की बात

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बेंगलुरु में गुरुवार यानि आज स्वदेश निर्मित लड़ाकू विमान तेजस में सफल उड़ान भरी। वह तेजस एयरक्राफ्ट में उड़ान भरने वाले पहले रक्षा मंत्री बन गए हैं। तेजस में उड़ान भरने वाले देश के पहले रक्षा मंत्री बन गए हैं। 


तेजस में सवार होने से पहले राजनाथ ने पायलट की यूनिफॉर्म पहने एक फोटो ट्वीट किया जिसके साथ लिखा था, 'सारी तैयारी हो चुकी है। राजनाथ करीब आधे घंटे तक उड़ान भरी। सफल उड़ान के बाद रक्षा मंत्री ने मीडिया से बात की और कहा कि तेजस स्वदेसी विमान है, इसमें उड़ान भरना उनके लिए गर्व की बात है। उन्होंने ये भी बतया कि आखिर उड़ान भरने के लिए तेजस को ही क्यों चुना। राजनाथ  ने बताया कि मैंने तेजस को इसलिए चुना, क्योंकि ये देसी विमान है। 

मैं चाहता था कि देसी विमान में उड़ान भरूं. भारत की जनता को अपनी वायुसेना, थल सेना और नेवी पर गर्व है और पूरा विश्वास भी है। कहा, ‘आज तेजस में बैठने का अवसर मिला, मैं जब उड़ान भर रहा था तो पायलट से बात कर रहा था और विमान के बारे में जानकारी भी ले रहा था। कहा कि तेजस पूरी तरह से भारत में बना है और दुनिया के दूसरे देश भी इसे मांग रहे हैं। तेजस को एक्सपोर्ट करने का सिलसिला भी अब भारत ने शुरू कर दिया है। उनके साथ एयर वाइस मार्शल एन तिवारी भी थे। तिवारी बेंगलुरू में एयरोनॉटिकल डेवलपमेंट एजेंसी (एडीए) के नेशनल फ्लाइट टेस्ट सेंटर में परियोजना निदेशक हैं। 
अधिकारी ने कहा था ‘‘उनके इस कदम से भारतीय वायुसेना के उन पायलटों का मनोबल भी बढ़ेगा जो यह विमान उड़ा रहे हैं।’’ भारतीय वायुसेना तेजस विमान की एक खेप को पहले ही शामिल कर चुकी है। एलसीए का नौसैन्य संस्करण फिलहाल निर्माण चरण में है। पिछले शुक्रवार को गोवा में तेजस ने विमान वाहक पोत पर उतरने की काबिलियत दिखाई थी यानि “अरेस्टेड लैंडिंग” की थी। इस लैंडिंग के दौरान नीचे से लगे तारों की मदद से विमान की रफ्तार कम कर दी जाती है। इसी के साथ लड़ाकू विमान के नौसैन्य संस्करण के निर्माण की राह आसान हो गई थी। 

बृहस्पतिवार को ही सिंह बेंगलुरु में रक्षा अनुसंधान और शोध संगठन (डीआरडीओ) के उत्पादों की प्रदर्शनी में भी शामिल होंगे। शुरुआत में आईएएफ ने 40 तेजस विमानों के लिए हिन्दुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) को ऑर्डर दिया था। पिछले साल भारतीय वायु सेना ने 50,000 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से 83 और तेजस विमानों की अन्य खेप की खरीद के लिए एचएएल को अनुरोध प्रस्ताव (आरएफपी) जारी किया था। 
Tags : Narendra Modi,कांग्रेस,Congress,नरेंद्र मोदी,राहुल गांधी,Rahul Gandhi,punjabkesri ,Rajnath Singh,flight,Tejas,Defense Minister,Bangalore