+

नाइट कर्फ्यू से बढ़ सकती हैं दिल्लीवालों की मुश्किलें, शादियों पर छाए संकट के बादल

कोरोना महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए दिल्ली में 30 अप्रैल तक लगाए गए नाइट कर्फ्यू के बाद दिल्लीवासी एक बार फिर शादी की तारीख, समारोह स्थल और उसके ‘‘समय’’ पर विचार करने लगे हैं।
नाइट कर्फ्यू से बढ़ सकती हैं दिल्लीवालों की मुश्किलें, शादियों पर छाए संकट के बादल
कोरोना महामारी के बढ़ते खतरे को देखते हुए दिल्ली में 30 अप्रैल तक नाइट कर्फ्यू के ऐलान किया गया है। ऐसे में दिल्लीवासी एक बार फिर शादी की तारीख, समारोह स्थल और उसके ‘‘समय’’ पर विचार करने लगे हैं। दिल्ली सरकार ने शहर में 30 अप्रैल तक रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक का रात्रिकालीन कर्फ्यू लगा दिया है।
आलम यह है कि लोगों ने दिल्ली से लगे नोएडा और गुड़गांव में समारोह स्थल ढूंढने शुरू कर दिए हैं। राष्ट्रीय राजधानी में कोविड-19 के मामलों में अचानक बढ़ोतरी के मद्देनजर ये नए प्रतिबंध लगाए गए हैं। दिल्ली स्वास्थ्य विभाग के अनुसार, दिल्ली में मंगलवार को कोविड-19 के 5,100 नए मामले सामने आए थे। 
इससे पहले पिछले साल 27 नवम्बर को सर्वाधिक 5482 नए मामले सामने आए थे। विभाग के अनुसार, वायरस से 17 और मरीजों की मौत के बाद मृतक संख्या बढ़कर 11,113 हो गई। रात्रिकालीन कर्फ्यू के फैसले का शहर में हो रही शादियों पर काफी असर पड़ा है, जिनमें शिरकत करने वाले लोगों की संख्या सरकार ने मार्च अंत में पहले ही 200 से घटाकर 100 कर दी थी। 
दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने एक न्यूज़ एजेंसी से कहा, ‘‘ दूल्हा, दुल्हन और उनके करीबी रिश्तेदारों को जिला मजिस्ट्रेट से ‘ई-पास’ लेना होगा, लेकिन किसी अन्य मेहमान को रात 10 बजे से सुबह पांच बजे तक कर्फ्यू के दौरान छूट नहीं दी जाएगी।’’ 
facebook twitter instagram