+

दिल्ली पुलिस ने फैक्ट-चेकर मोहम्मद जुबैर पर लगाए विदेशी चंदा लेने और सबूत मिटाने के आरोप

दिल्ली पुलिस ने मोहम्मद जुबैर को कोर्ट पेश करते हुए उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे जाने का अनुरोध किया। इसके साथ ही पुलिस ने जुबैर पर सबूत मिटाने, साजिश रचने और विदेशी चंदे लेने के आरोप में नई धाराएं लगाई।
दिल्ली पुलिस ने फैक्ट-चेकर मोहम्मद जुबैर पर लगाए विदेशी चंदा लेने और सबूत मिटाने के आरोप
दिल्ली पुलिस ने 2018 में एक हिंदू देवता के खिलाफ 'आपत्तिजनक ट्वीट' करने के मामले में मोहम्मद जुबैर को आज पटियाला हाउस कोर्ट में पेश किया। पुलिस ने कोर्ट से जुबैर को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे जाने का अनुरोध किया। इसके साथ ही दिल्ली पुलिस ने जुबैर पर सबूत मिटाने, साजिश रचने और विदेशी चंदे लेने के आरोप में नई धाराएं लगाई हैं।
नए आरोप आईपीसी की धारा 120 बी (आपराधिक साजिश) और 201 (सबूत गायब करना) और विदेशी योगदान (विनियमन) अधिनियम की धारा 35 के तहत हैं। इससे पहले, जुबैर पर आईपीसी की धारा 153 ए (धर्म, जाति, जन्म स्थान, निवास के आधार पर विभिन्न समूहों के बीच दुश्मनी को बढ़ावा देना) और 295 ए (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्य, जिसका उद्देश्य किसी भी वर्ग की धार्मिक भावनाओं को उसके धर्म या धार्मिक विश्वासों का अपमान करना है) उसके एक आपत्तिजनक ट्वीट के लिए आरोप लगाए गए थे।

उदयपुर हत्याकांड : NIA कोर्ट में पेश किए जायेंगे आरोपी, रिमांड की मांग करेगी जांच एजेंसी

एफआईआर में कहा गया है, "इस तरह के पोस्ट का प्रसारण और प्रकाशन जानबूझकर इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के माध्यम से एक समुदाय विशेष की धार्मिक भावनाओं का अपमान करने के इरादे से शांति भंग करने के इरादे से किया गया है।" 
एफआईआर के अनुसार, आरोपी जुबैर ने एक पुरानी हिंदी फिल्म के स्क्रीनग्रैब का इस्तेमाल किया था, जिसमें एक होटल की तस्वीर दिखाई दे रही थी, जिसके बोर्ड पर 'हनीमून होटल' के बजाय 'हनुमान होटल' लिखा हुआ था। जुबैर ने अपने ट्वीट में लिखा था, "2014 से पहले : हनीमून होटल, 2014 के बाद : हनुमान होटल।"
दिल्ली हाई कोर्ट ने शुक्रवार को जुबैर की याचिका पर दिल्ली पुलिस को नोटिस जारी किया, जिसमें पटियाला हाउस कोर्ट के आदेश को चुनौती दी गई थी, जिसमें 2018 के विवादास्पद ट्वीट के संबंध में उनकी पुलिस हिरासत और उनके लैपटॉप को जब्त करने की अनुमति दी गई थी।

facebook twitter instagram