+

E-commerce कंपनी में नौकरी के नाम पर करोड़ों की धोखाधड़ी, दुबई से सिंडिकेट कंट्रोल करता है सरगना

दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय साइबर धोखाधड़ी (international cyber fraud) का खुलासा हुआ है। बेरोजगार युवाओं को ई-कॉमर्स कंपनी में ‘वर्क फॉर होम’ का लालच देकर आरोपी ठगी करते थे।
E-commerce कंपनी में नौकरी के नाम पर करोड़ों की धोखाधड़ी, दुबई से सिंडिकेट कंट्रोल करता है सरगना
दिल्ली में अंतरराष्ट्रीय साइबर धोखाधड़ी (international cyber fraud) का खुलासा हुआ है। बेरोजगार युवाओं को ई-कॉमर्स कंपनी में ‘वर्क फॉर होम’ का लालच देकर आरोपी ठगी करते थे। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है। अंतरराष्ट्रीय साइबर धोखाधड़ी गिरोह का सरगना दुबई से अपने सिंडिकेट को कंट्रोल करता है।
पुलिस ने बताया कि आरोपी नौकरी डॉट कॉम और शाइन डॉट कॉम जैसी वेबसाइटों से बेरोजगार युवाओं की जानकारी एकत्रित करते थे और ई-कॉमर्स कंपनी का अधिकारी बनकर उनसे संपर्क करते थे। पुलिस ने बताया कि यह मामला एक महिला की शिकायत पर सामने आया। 
महिला ने अपनी शिकायत में बताया कि उसे कथित तौर पर अज्ञात फोन नंबर से कॉल आया और कॉल करने वाले ने अपना परिचय अमेजॉन कंपनी के नैथाली के तौर पर दिया। महिला का आरोप है कि आरोपी द्वारा घर से काम करने वाली नौकरी का झांसा देकर व्हाट्सऐप पर एक फर्जी वेबसाइट लिंक भेजा गया और उससे 3,15,745 रुपये की धोखाधड़ी की गई।

श्रद्धा मर्डर केस का आरोपी जेल की सलाखों के पीछे अकेले ही खेलता है शतरंज

पुलिस उपायुक्त (उत्तर) सागर सिंह कलसी ने बताया कि कॉल और पैसों की लेनदेन का तकनीकी विश्लेषण करने पर पता चला कि शिकायतकर्ता को फिलीपीन से व्हाट्सऐप संदेश आया और धोखाधड़ी की गई राशि भारत के विभिन्न महानगरों में कई खातों में भेजी गई। गिरफ्तार किए गए आरोपियों की पहचान अमित केडिया (30), सचिन गुप्ता (36), रोहित जैन (36) और प्रदीप कुमार (34) के तौर पर हुई।
वरिष्ठ पुलिस पुलिस ने बताया कि जांच के दौरान जानकारी मिली, ‘‘गुलाटी ने कुछ वेबसाइट डेवलपरो की मदद से फर्जी वेबसाइट तैयार की जो ई-कॉमर्स कंपनी अमेजॉन की तरह दिखती है। गुलाटी फिलीपीन के नबंर से पीड़ितों से संपर्क कर नौकरी का झांसा देता था। वह जानबूझकर फिलीपीन के नंबर का इस्तेमाल करता था ताकि गिरफ्तारी से बच सके एवं जांच को भटका सके।’’

facebook twitter instagram