+

उदित नारायण के बेटे होने के बावजूद आदित्य को आउटसाइडर की तरह करनी पड़ी काम की तलाश

बॉलीवुड के फेमस सिंगर आदित्य नारायण इस वक़्त अपने करियर के पीक पर है। उनके सभी म्यूजिक वीडियोस ज़बरदस्त हिट साबित हो रहे है
उदित नारायण के बेटे होने के बावजूद आदित्य को आउटसाइडर की तरह करनी पड़ी काम की तलाश
बॉलीवुड के फेमस सिंगर आदित्य नारायण इस वक़्त अपने करियर के पीक पर है। उनके सभी म्यूजिक वीडियोस ज़बरदस्त हिट साबित हो रहे है। बावजूद इसके अभी भी लोग उन्हें उनके पिता के नाम से ज़्यादा जानते है। आदित्य नारायण का नाम आते ही उदित नारायण का नाम खुद लोगो के ज़हन में आ जाता है। लेकिन आदित्य का कहना है की इन सब चीज़ो का उनके करियर पर कोई फ़ायदा नहीं होता। 

बता दे, आदित्य नारायण एक मल्टी टैलेंटेड आर्टिस्ट हैं। वो सिंगिंग के अलावा अपनी एक्टिंग का हुनर भी दिखा चुके है। वहीं, आदित्य को टीवी शो के होस्ट के रूप में भी देखा गया है। हाल ही में उन्होंने अपने स्ट्रगल को लेकर बात की है। उन्होंने बताया कि भले ही वो फेमस सिंगर उदित नारायण के बेटे हैं बावजूद इसके उन्हें एक आउटसाइडर की तरह इंडस्ट्री में काम की तलाश करनी पड़ी।


मीडिया के साथ बातचीत के दौरान आदित्य नारायण ने कहा, 'मुझे 25 साल बाद काम मिलना शुरू हुआ। पिछले साल एआर रहमान ने रिकॉर्डिंग के लिए बुलाया था। ये मौका भी 20 साल बाद आया था। इस साल मैंने विशाल-शेखर के लिए गाना गाया।' उन्होंने आगे कहा कि वह विशाल-शेखर को पिछले 18 सालों से जानते हैं। दोनों उस शो के जज भी थे जिसे वो होस्ट करते थे लेकिन उन्हें उनसे काम नहीं मिला।


अपने संघर्ष के बारे में बात करते हुए आदित्य नारायण ने कहा, 'फिल्म राम लीला के लिए गाने के बाद मैंने कई म्यूजिक डायरेक्टर से मुलाकात की, जिनमें प्रीतम, विशाल शेखर, शंकर एहसान लॉय शामिल हैं लेकिन मुझे उन्होंने काम नहीं दिया।' आदित्य ने बताया कि संजय लीला भंसाली की फिल्म के लिए दो हिट सॉन्ग ततड़-ततड़ और इश्कियां-ढिश्कियां देने के बाद भी मुझे 6 साल तक किसी ने काम नही दिया। 
facebook twitter instagram