+

बच्चों को कोविड से बचाना है तो इन लक्षणों को न करें अनदेखा, मामला गंभीर होने से पहले हो जायें सतर्क

कोविड बच्चों में हल्के लक्षणों के साथ शुरू होता है लेकिन अगर इसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है तो यह गंभीर हो जाता है। इसलिए, यह आवश्यक है कि माता पिता लक्षणों से अवगत हों और तुरंत चिकित्सा सहायता लें।
बच्चों को कोविड से बचाना है तो इन लक्षणों को न करें अनदेखा, मामला गंभीर होने से पहले हो जायें सतर्क
कोरोनावायरस महामारी की दूसरी लहर के दौरान, बच्चों के घातक वायरस से संक्रमित होने के कई मामले सामने आए हैं। यह बच्चों में हल्के लक्षणों के साथ शुरू होता है लेकिन अगर इसे गंभीरता से नहीं लिया जाता है तो यह गंभीर हो जाता है। इसलिए, यह आवश्यक है कि माता पिता लक्षणों से अवगत हों और तुरंत चिकित्सा सहायता लें। 
बुखार कोविड 19 में कई लक्षण शामिल हैं 
  1. खांसी 
  2. सांस लेने में तकलीफ 
  3. जुकाम के लक्षण जैसे गले में खराश, कंजेशन या नाक बहना 
  4. ठंड लगना 
  5. मांसपेशियों में दर्द 
  6. सिरदर्द 
  7. 8 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों में स्वाद या गंध की कमी 
  8. मतली या उल्टी 
  9. दस्त 
  10. थकान 
यहां तक कि कभी कभी वायरस से संक्रमित होने के कई सप्ताह बाद भी पूरे शरीर में सूजन एक प्रमुख चिंता का बात है, इसे बच्चों में मल्टीसिस्टम इंफ्लेमेटरी सिंड्रोम कहा जाता है। डॉक्टर अभी भी यह पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं कि ये लक्षण कोरोनावायरस महामारी से कैसे संबंधित हैं। 
  1. बुखार 
  2. पेट दर्द 
  3. उल्टी या दस्त 
  4. जल्दबाजी 
  5. गर्दन में दर्द 
  6. लाल आंखें 
  7. बहुत थकान महसूस हो रही है 
  8. लाल, फटे होंठ 
  9. सूजे हुए हाथ या पैर 
  10. सूजी हुई ग्रंथियां (लिम्फ नोड्स) 
यदि आपका बच्चा एमआईएस सी से पीड़ित है, तो उसे सांस लेने में तकलीफ, सीने में दर्द या दबाव, होंठ या चेहरे का नीला पड़ना, भ्रम या जागते रहने में परेशानी हो सकती है। ऐसे लक्षणों को नजरअंदाज नहीं करना चाहिए और बच्चे को अस्पताल ले जाना चाहिए। यह देखा गया है कि वे बच्चे अस्पताल की देखभाल से ठीक हो जाते हैं। 
अगर किसी बच्चे में लक्षण हैं, तो क्या करें? विशेषज्ञ का जवाब- 
बच्चे की स्थिति को देखकर और उसकी जांच करने के बाद, डॉक्टर तय करेगा कि इसका इलाज घर पर किया जा सकता है, किसी को यात्रा के लिए आना चाहिए, या वीडियो या टेलीहेल्थ के जरिए भी उपचार किया जा सकता है या नहीं। 
बच्चे में लक्षण होने पर अन्य सदस्यों को कैसे सुरक्षित रखें? 
विशेषज्ञ कहते हैं, "यह आवश्यक है कि परिवार के सभी सदस्य अपनी परीक्षण रिपोर्ट आने तक घर पर रहें। सुनिश्चित करें कि घर के लोग और पालतू जानवर जितना संभव हो सके आपके बच्चे से दूर रहें। सुनिश्चित करें कि परिवार में केवल एक ही व्यक्ति बच्चे को संभाले और बीमार बच्चे की देखभाल करे। 
बच्चे को अकेला न छोड़ें
यदि संक्रमित बच्चा दो साल से ऊपर का है तो उसे कम से कम उस समय के लिए मास्क पहनना चाहिए जब देखभाल करने वाला कमरे में हो। साथ ही बच्चे को लंबे समय तक अकेला न छोड़ें अपना मास्क लगाएं। यदि बीमार बच्चा उसी वॉशरूम का उपयोग कर रहा है, तो बाथरूम का उपयोग करने के बाद उसे कीटाणुनाशक से पोंछ दें। परिवार के अन्य सदस्यों को नियमित अंतराल पर अपने हाथों को साफ करना चाहिए।"
घबराएं नहीं 
हालांकि, परिवार को घबराना नहीं चाहिए। कोविड 19 के टीके अब 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों के लिए उपलब्ध हैं। यहां तक कि शिशुओं के लिए खुराक का भी परीक्षण किया जा रहा है। पात्र होते ही सभी को टीका लगवाना चाहिए। 
facebook twitter instagram