इस लड़की ने नीले रंग का टैटू आंखों में बनवाया, 3 हफ्ते के लिए हो गई थी अंधी

दुनिया में कई ऐसे लोग हैं जिन्हें कई चीजें कराने का फितूर होता है। जबकि अपने जीवन के लक्ष्य को ही कुछ ऐसे लोग फितूर बना देते हैं। किसी को अपने प्रेमी का फितूर होता है। हालांकि दुनिया में इतने महान भी लोग मिल जाएंगे जो अपनी ही जान के दुश्मन हो जाते हैं। ऐसा ही खबर आज हम आपको बताने जा रहे हैं। दरअसल एक लड़की को टैटू बनवाने का इतना शौक था जिसकी वजह से वह अपनी ही जान की दुश्मन बन गई। 


24 साल की एंबर ल्यूक ऑस्ट्रेलिया के न्यू साउथ वेल्स की रहने वाली हैं। उन्हें टैटू बनवाने का बहुत शौक है। एंबर टैटू बनवाने की ऐसी दीवानगी है कि उन्होंने अपने पूरे ही शरीर पर टैटू बनवाए हुए हैं। 200 से ज्यादा टैटू एंबर ने अपने शरीर पर बनवाए हुए हैं। टैटू मेकिंग की दुनिया में ड्रैगन गर्ल के नाम से भी एंबर को बुलाया जाता है। एंबर का टैटू बनवाने का यह जुनून किसी रोज उनके लिए भी खतरा बन चुका था। 


एंबर ने कुछ समय पहले फैसला किया कि वह अपनी आंखों में टैटू बनवाएंगी और नीले रंग की आंखें कर लेंगी। अब एंबर को तो फितूर था टैटू बनवाने का तो उन्होंने अपनी आंखों में नीले रंग का टैटू बनवा लिया। लेकिन इसके बाद जो भी उनके साथ हुआ उसे वह जिंदगी भर भी भुला नहीं पाएंगी। दरअसल आंखों में टैटू बनवाने के बाद एंबर अंधी हो गई थी। 


अब तक 26,000 डॉलर यानी 18.37 लाख से अधिक पैसे एंबर ने टैटू बनवाने में खर्च कर दिए हैं। नीले आंखों वाली सफेद ड्रैगन एंबर को अपने आपको बुलाना अच्छा लगता है। आंखों में टैटू बनवाने का एंबर ने अपना अनुभव दुनिया से शेयर किया। आंखों में टैटू बनवाने पर एंबर ने कहा कि यह अनुभव मेरे लिए सबसे खतरनाक था। आंखों में टैटू बनवाने में 40 मिनट लग गए थे और मैं अंधी भी तीन हफ्तों के लिए हो गई थी। 


एंबर ने अपने इस अनुभव पर बात करते हुए कहा कि, शब्दों में मैं अपने इस अनुभव को बयां नहीं कर सकती। टैटू का इंक जब मेरी आंखों में डाला जा रहा था, तब मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने शीशे के 10 नुकीले टुकड़े मेरी आंखों मंे डाल दिए। साल में चार बार इंक डालने की प्रक्रिया आंखों में की जाती थी। बहुत ही खतरनाक यह प्रक्रिया होती है। अगर छोटी सी भी गड़बड़ इस प्रक्रिया में हो जाती तो आंखों की रोशनी एंबर की हमेशा के लिए चली जाती। 


एंबर कहती हैं कि अपने पूरे शरीर को वह टैटू से मार्च 2020 तक ढंकना चाहती हैं। अपने स्तनों, होठों और भौंह में एंबर ने सर्जरी के जरिए ट्रांस्फॉर्मेशन भी करवा चुकी हैं। लेकिन किसी भी तरह का अब मॉडिफिकेशन एंबर अपने शरीर पर नहीं चाहती हैं। एंबर की मां विक्की ने कहा कि जब उन्होंने पहली बार एंबर की आंखों में टैटू देखा था तो वह भावुक हो गई थीं। 


एंबर की 16 साल की उम्र में टैटूज को लेकर यह दीवानगी बढ़ी थी। एंबर कहती हैं कि उनकी नकरात्मक ऊर्जा का तोड़ टैटू हैं। एंबर कहती हैं कि इस बात की कोई भी चिंता उन्हें नहीं हैं कि वह बूढ़ापे में कैसी लगेंगी। एंबर कहती हैं कि कोई भी इंसान 70 साल की उम्र के बाद खूबसूरत नहीं दिखता है। टैटूज की तो एक ऐसी चीज है एंबर के लिए जिसे वह लेकर दफ्न होंगी। 
Tags : Chhattisgarh,Punjab Kesari,जगदलपुर,Jagdalpur,Sanctuaries,Indravati National Park ,world,Fitoor