+

सियासी पिच पर जीतने का प्रयास, ओडिशा के पदमपुर उपचुनाव के लिए तेज हुआ प्रचार

पदमपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए प्रचार अभियान तेज होने के साथ भाजपा उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा और पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा अपने पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार के लिये यहां पहुंचे जबकि सत्तारूढ़ बीजू जनता दल के कई मंत्री एवं विधायक पिछले सप्ताह से ही इस निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार कर रहे हैं।
सियासी पिच पर जीतने का प्रयास, ओडिशा के पदमपुर उपचुनाव के लिए तेज हुआ प्रचार
दिसंबर में होने वाले पदमपुर विधानसभा उपचुनाव के लिए प्रचार अभियान तेज होने के साथ भाजपा उपाध्यक्ष बैजयंत पांडा और पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा अपने पार्टी प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार के लिये यहां पहुंचे जबकि सत्तारूढ़ बीजू जनता दल (बीजद) के कई मंत्री एवं विधायक पिछले सप्ताह से ही इस निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार कर रहे हैं।कांग्रेस की ओडिशा इकाई के अध्यक्ष सरत पटनायक, पार्टी के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष निरंजन पटनायक और जयदेव जेना के साथ मिलकर इस निर्वाचन क्षेत्र में पार्टी प्रत्याशी सत्यभूषण साहू के पक्ष में वोट मांग रहे हैं। साहू बारगढ़ जिले की पदमपुर सीट से दो बार विधायक रह चुके हैं।
निर्वाचन क्षेत्र में झारबंध प्रखंड के बिलासपुर जनसभा स्थल पर जब पांडा और पात्रा विशेष हेलीकॉप्टर से पहुंचे तब लोगों की खासी भीड़ जुटी। प्रचार के लिये क्षेत्र में आए बीजद और कांग्रेस नेताओं में से हालांकि कोई भी यहां हेलीकॉप्टर से नहीं आया।गृहिणी रेवती साहू ने कहा, ‘‘ हमें नहीं मालूम है कि पांडा और पात्रा कौन हैं लेकिन हम हेलीकॉप्टर देखने आये हैं।’’दोनों नेता भाजपा उम्मीदवार प्रदीप पुरोहित के पक्ष में वोट मांग रहे हैं। पांडा और पात्रा ने अपने भाषणों में बीजद सरकार पर निशाना साधा और मुख्यमंत्री नवीन पटनायक पर 22 साल सत्ता में रहने के बाद भी क्षेत्र के लिए कुछ नहीं का आरोप लगाया।
पांच दिसंबर को है उपचुनाव
पात्रा ने कहा, ‘‘ पदमपुर के साथ राज्य सरकार के सौतेले बेटे की तरह बर्ताव किया गया। यह बीजद सरकार को सबक सिखाने का समय है।’’पांडा ने कहा, ‘‘ बारगढ़ जिला मेरी दिवंगत माता का जन्मस्थान है। यह मेरा ननिहाल है, इसलिए मुझे स्थानीय लोगों से ढेर सारा प्यार एवं स्नेह मिला। इलाके का भांजा होने के नाते मैं आपसे पुरोहित के पक्ष में वोट देने की अपील करता हूं।’’प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पटनायक अपनी सभाओं में यह बताते हैं कि कैसे पिछली कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में विकास कार्य किये गये।केंद्रीय मंत्रियों नरेंद्र सिंह तोमर और अश्वनी वैष्णव का भी रविवार को भाजपा प्रत्याशी के पक्ष में प्रचार के लिए आने का कार्यक्रम है।पदमपुर विधानसभा सीट पर पांच दिसंबर को उपचुनाव है। पदमपुर के विधायक बिजय रंजन सिंह बरिहा का तीन अक्टूबर को निधन हो गया था, जिस कारण इस सीट पर उपचुनाव कराया जा रहा है।
facebook twitter instagram