+

केंद्र के साथ होने वाली वार्ता के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसान, कृषि मंत्री ने सभी मुद्दों पर चर्चा का दिया भरोसा

इस बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी के साथ अपने आवास से रवाना हुए। केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा, "आज की बैठक में जो विषय बचे हुए हैं उन पर चर्चा होगी। मुझे आशा है कि सभी सकारात्मक हल निकालने में मदद करेंगे और हम सफल भी होंगे।"
केंद्र के साथ होने वाली वार्ता के लिए विज्ञान भवन पहुंचे किसान, कृषि मंत्री ने सभी मुद्दों पर चर्चा का दिया भरोसा
कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर पिछले 40 दिनों से किसान प्रदर्शन कर रहे है। ऐसे में सोमवार को किसान नेताओं और सरकार की बीच एक महत्वपूर्ण बैठक होने जा रही है। सरकार के साथ होने वाली सातवें दौर की वार्ता के लिए किसान नेता विज्ञान भवन पहुंचे हैं।
इस बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर, कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी के साथ अपने आवास से रवाना हुए। केंद्रीय कृषि मंत्री ने कहा, "आज की बैठक में जो विषय बचे हुए हैं उन पर चर्चा होगी। मुझे आशा है कि सभी सकारात्मक हल निकालने में मदद करेंगे और हम सफल भी होंगे।"
वहीं भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने बैठक के लिए रवाना होने से पहले गाजियाबाद स्थित श्री अर्धनारीशवर शंकर भगवान के प्राचीन मंदिर में दर्शन के लिए गए। राकेश टिकैत ने बताया, आज सोमवार है और आज एक महत्वपूर्ण दिन है जिसके लिए मैंने मंदिर में दर्शन किए हैं। मुझे भगवान पर पूरा भरोसा है। किसानों की जीत होगी।
उन्होंने आगे बताया, बीते कल गाजियाबाद में एक हादसा हुआ, जिसमें कई लोगों की जान चली गई, हम बहुत वक्त से गाजियाबाद में बैठे हुए हैं। उनकी आत्मा को शान्ति मिले। दरअसल गतिरोध को समाप्त करने के लिए सरकार और किसानों के बीच सोमवार को अगले दौर की बातचीत होनी है। ऐसे में सबकी नजरें इस बैठक पर टिकी हुई हैं।
सरकार और किसानों की 7 दौर की बातचीत के बाद भी अब तक कोई नतीजा नहीं निकल सका है। हालांकि 30 दिसंबर को सरकार और किसान संगठनों के बीच हुई बैठक में बिजली बिल और पराली बिल को लेकर सहमति बन गई थी। दूसरी तरफ किसान संगठनों ने साफ कह दिया है कि जब तक सरकार उनकी मांगें नहीं मानती है, तब तक वो डटे रहेंगे। कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर पर चल रहे किसानों के विरोध प्रदर्शन को देखते हुए बॉर्डर पर सुरक्षा बल तैनात है।

कृषि कानून पर आज फिर किसानों को मनाने की कोशिश करेगी सरकार, राकेश टिकैत ने रखी ये तीन मांगें


facebook twitter instagram