+

दिल्ली का रास्ता न भूल जाएं ट्रैक्टर इसलिए करनी पड़ती है रिहर्सल : राकेश टिकैत

ट्रैक्टर रैली की रिहर्सल पर बीकेयू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि रिहर्सल इसलिए हो रही है कि 26 तारीख नजदीक है। और किसान 26 तारीख को कभी नहीं भूलेगा।
दिल्ली का रास्ता न भूल जाएं ट्रैक्टर इसलिए करनी पड़ती है रिहर्सल : राकेश टिकैत
केंद्र सरकार के कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसान संगठनों ने एक बार राजधानी की ओर कूच करने की बात कही है। इसके मद्देनजर दिल्ली-यूपी की सीमाओं पर गुरुवार रात से ही ट्रैक्टरों का आना जारी है। दिल्ली के गाजीपुर बॉर्डर पर विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों ने ट्रैक्टर रैली की रिहर्सल भी शुरू कर दी है।
ट्रैक्टर रैली की रिहर्सल पर भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि रिहर्सल इसलिए हो रही है कि 26 तारीख नजदीक है। और किसान 26 तारीख को कभी नहीं भूलेगा। हर महीने 26 तारीख आएगी, किसान ट्रैक्टरों की रिहर्सल करेगा। ट्रैक्टर दिल्ली का रास्ता न भूल जाएं इसलिए इनकी रिहर्सल करनी पड़ती है।

अनिल देशमुख की बढ़ी मुश्किलें, एक महीने में दूसरी बार पूर्व गृह मंत्री के घर पर ED ने की छापेमारी

हमें उम्मीद है कि सरकार बात करेगी। नहीं बातचीत करेगी तो अगला कदम उठाएंगे। ये आंदोलन तब तक जारी रहेगा जब तक केंद्र सरकार कानून वापस नहीं लेगी और MSP पर कानून नहीं बनाएगी। किसान आंदोलन पर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने शुक्रवार को कहा, किसान यूनियन के नेताओं से भारत सरकार 10-11 बार बात कर चुकी है। 50 घंटे से अधिक चर्चा चली है। 
उन्होंने कहा, हमने किसानों की परेशानियों को समझने का प्रयत्न किया है। आज भी भारत सरकार पूरा मन रखती है कि जिस प्रावधान पर उन्हें आपत्ति है वे खुले मन से बताएं। गौरतलब है कि पिछले साल से तकरीबन आठ महीने से राकेश टिकैत की अगुवाई में गाजीपुर बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी है।  
दिल्ली - एनसीआर :
facebook twitter instagram