+

फारुख इंजीनियर का विराट पर मजाकिया अंदाज में कमेंट,इतनी खूबसूरत पत्नी फिर आप डिप्रेशन में कैसे जा सकते हैं

टीम इंडिया के विकेटकीपर रहे फारुख इंजीनियर ने भारतीय कप्तान विराट कोहली पर मजाकिया अंदाज में कमेंट किया है। एक स्पोर्ट्स वेबसाइट को हाल ही में दिए इंटरव्यू में 83 साल के इंजीनियर ने कहा, ‘आपकी पत्नी इतनी खूबसूरत है तो आप कैसे डिप्रेशन में जा सकते हैं।’
फारुख इंजीनियर का विराट पर मजाकिया अंदाज में कमेंट,इतनी खूबसूरत पत्नी फिर आप डिप्रेशन में कैसे जा सकते हैं

टीम इंडिया के विकेटकीपर रहे फारुख इंजीनियर ने भारतीय कप्तान विराट कोहली पर मजाकिया अंदाज में कमेंट किया है। एक स्पोर्ट्स वेबसाइट को हाल ही में दिए इंटरव्यू में 83 साल के इंजीनियर ने कहा, ‘आपकी पत्नी इतनी खूबसूरत है तो आप कैसे डिप्रेशन में जा सकते हैं।’ विराट ने हाल ही में कहा था कि वे 2014 के इंग्लैंड दौरे के समय डिप्रेशन में चले गए थे।इंजीनियर ने आगे कहा, ‘आप पिता बन चुके हैं। ऐसे में भगवान को शुक्रिया कहने के लिए आपके पास कई वजह हैं। डिप्रेशन पश्चिमी देशों की सोच है। हम सभी भारतीय ऐसी परिस्थिति में रहते हैं, जहां डिप्रेशन से बचा सकता है। हमारी मानसिक स्थिति भी बहुत अच्छी है।’



यह पहला मौका नहीं है, जब फारुख इंजीनियर ने विराट और अनुष्का पर कमेंट किया था। 2019 में इंग्लैंड में हुए वर्ल्ड कप के दौरान अनुष्का और इंजीनियर में जुबानी जंग भी हुई थी। तब इंजीनियर ने कहा था कि इंग्लैंड में वर्ल्ड कप के दौरान सिलेक्टर्स अनुष्का की खातिरदारी में लगे थे, उन्हें चाय परोसते थे।विराट ने हाल ही में कहा था, ‘इंग्लैंड दौरा (2014) निजी तौर पर मेरे लिए बेहद मुश्किल था। मैं डिप्रेशन में था। मुझे ऐसा लगता था कि मैं रन नहीं बना पाऊंगा। यह बहुत बुरा अहसास था। सभी बल्लेबाजों की जिंदगी में ऐसा एक दौर आता है। तब आपके बस में कुछ नहीं होता। मैं अपने को अकेला महसूस कर रहा था। मुझे लग रहा था कि मुझे कोई समझ पाएगा भी या नहीं। मुझे नींद नहीं आ रही थी। मैं आत्मविश्वास खो चुका था।'



कोहली ने उस समय पांच टेस्ट मैचों की 10 पारियों में 13.50 की औसत से रन बनाए थे। हालांकि, इसके बाद उन्होंने वापसी करते हुए शानदार बल्लेबाजी की थी।कोहली ने बताया था कि डिप्रेशन से निकलने में 1990 की टीम इंडिया ने उनकी काफी मदद की। उन्होंने कहा, 'मैं जब भी 90s की टीम को याद करता हूं, तो मुझे समझ में आता है कि क्या करना चाहिए। मैंने टीम इंडिया को कई मैच जीतते हुए देखा। फिर मुझे यकीन हुआ कि खुद पर विश्वास करने से जादुई चीजें भी होती हैं। अगर कोई शख्स ठान ले, तो वह उसे बदल सकता है। यहीं से मुझे आगे बढ़ने का रास्ता दिखा। देश के लिए खेलने का जुनून यहीं से बढ़ा।'


facebook twitter instagram